Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

भीम एप गरीब व्यापारी, किसानों और वंचितों को लाभ देने वाला है: पीएम मोदी

 Girish Tiwari |  2016-12-30 11:10:42.0

c061-lrukaul7xg

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ:
पीएम नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी के बाद डिजिटल पेमेंट को बढ़ाना देने के लिए शुरू किए गए डिजिधन मेला में आज डिजि धन व्यापार योजना और लकी ग्राहक योजना के पहले विजेताओं की घोषणा की। उन्होंने इस मौके पर डिजिटल पेमेंट्स को आसान बनाने के लिए मोबाइल ऐप BHIM लॉन्च किया है। इस ऐप का नाम डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के नाम पर 'भीम' रखा गया है. इस अवसर पर उन्होंने कहा कि तकनीक अमीरों का ही नहीं गरीबों का भी खजाना है।



राजधानी दिल्ली के तालकटोरा स्टोडियम में आयोजित इस डिजि धन मेले को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि भीम एप गरीब व्यापारी, किसानों और वंचितों को लाभ देने वाला है। उन्‍होंने कहा कि अंबेडकर जयंती पर मेगा ड्रा का आयोजन होगा।



पीएम मोदी ने कहा कि एक 'भीम ऐप' को लांच किया गया है, बहुत कम लोगों को पता होगा जिन्होंने हमें संविधान दिया डॉ भीमराव आंबेडकर की अर्थशास्त्र में निपूर्णता थी। उनके विचारों का परिणाम ही था कि देश में केंद्रीय बैंक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की शुरुअात हुई।


कैशलेस अर्थव्यवस्था पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि आपका अंगूठा, आपका बैंक और आपका अंगूठा आपकी पहचान है। अंबेडकर के बारे में बोलते हुए कहा कि वह दलित, पीड़ित लोगों के मसीहा थे। उन्होंने समाज के सबसे अंतिम व्यक्ति के लिए संघर्ष किया। जंगलों में रहने वाले आदिवासियों के लिए संघर्ष किया। इसीलिए, इस तरह की नई शुरुआत का नाम बाबा साहब के नाम पर रखा गया. भीम ऐप दुनिया के लिए अजूबा होगा।



हमें गर्व होना चाहिए, जिस देश को अनपढ़ कहा जाता है वह देश इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग में सफलतापूर्वक क्रांति लेकर आया है। देश बदलाव के लिए तैयार हो रहा है। उन्‍होंने कहा कि एक जमाना था अनपढ़ को अंगूठा-छाप कहा जाता था अब वक़्त ऐसा है, आप ही का अंगूठा आपकी पहचान और बैंक बन गया है।


उन्होंने व्यापार योजना ड्रॉ पर बोलते हुए कहा कि 100 दिन में लाखों परिवार में इनाम जाएगा। 100 दिनों तक हर रोज 15 हजार लोगों को एक हजार रुपये का इनाम मिलेगा। लकी ड्रॉ, डिजिधन व्यापार मेला का ड्रॉ हुआ. 14 अप्रैल को बाबा साहेब की जयंती के दिन इसका मेगा ड्रा होगा।




उन्‍होंंने कहा कि कुछ लोग होते हैं जिनकी सुबह निराशा से ही होती है, उनकी निराशा के लिए अभी कोई औषधि नहीं बनी है, उनकी निराशा उन्हीं को मुबारक हो।



Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top