Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

दिखा पुलिस का मानवीय चेहरा, बच्चे के शव के साथ सड़क पर बैठे पिता को पहुंचाया घर

 Anurag Tiwari |  2016-09-05 12:01:24.0

Mp Police, Chhindwada, Child Death

तहलका न्यूज ब्यूरो

छिंदवाड़ा. पिछले दिनों जहां कोई मदद न मिलने पर अपने परिजन के शवों को लेकर लाचार लोग सड़क पर भटकते नजर आए, वहीं मध्य प्रदेश में ऐसे ही एक मामले में पुलिस और समाज का मानवीय चेहरा देखने को मिला.

मृतक बच्चे के पिता अनिल उइके ने बताया कि उसके दो साल के बेटे आकाश को सुबह उल्टी-दस्त शुरू हो आगयी थी. उसने 108 एम्बुलेंस को फ़ोन कर बुलाया जिससे वे अस्पताल पहुंचे. अस्पताल पहुंचने से पहले ही दो साल के आकाश ने दम तोड़ दिया था. सरकारी अस्पताल में डॉ विजय सिंह ने उल्टी से पीडित बच्चे की नब्ज टटोली और उसके मां-बाप को बच्चे के जीवित न होने की बात बताई.


बच्चे की मौत के सदमे में कुछ न समझ आने पर अनिल उइके और उसकी पत्नी अस्पताल के बाहर बैठकर रोने लगे. कुछ देर बाद वहां से गुजर रहे कुछ युवकों की नजर उन पर पड़ी तो उन्होंने पीड़ित परिवार को ढाढस बंधाया और स्थानीय पुलिस को इसकी जानकारी दी. सूचना मिलने पर तामिया पुलिस थाने के नगर निरीक्षक मोहन सिंह मर्सकोले मौक्ले पर पहुंचे और उन्होंने सरकारी जीप चालक सुनील अहके को अनिल और उसके बच्चे के शव को उसके गाँव आलीवाड़ा पहुंचाने का निर्देश दिया.  पुलिस और युवाओं की यह पूरे छिंदवाड़ा शहर में चर्चा का विषय बनी हुई है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top