Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

बाल विवाह हुआ तो माँ-बाप के साथ पुरोहित भी जाएगा जेल

 Sabahat Vijeta |  2016-04-19 14:45:37.0

Child-Marriage-1रायपुर, 19 अप्रैल. छत्तीसगढ़ सरकार बाल विवाह रोकने के लिए अब कड़े कदम उठाने की तैयारी कर रही है. तमाम कोशिशों के बावजूद बाल विवाह की समस्या के हल न हो पाने की वजह से सरकार ने तय किया है कि बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम 2006 के तहत अब बाल विवाह कराने वाले माँ-बाप, शादी में शामिल होने वाले रिश्तेदार, बाराती और यहां तक कि विवाह कराने वाले पुरोहित पर भी कानूनी कार्रवाई हो सकती है. इसकी तैयारियां पूरी हो गई हैं.


छत्तीसगढ़ के महिला एवं बाल विकास विभाग के सचिव सोनमणि बोरा ने एक परिपत्र जारी करते हुए बाल विवाह रोकने के सम्बन्ध में विस्तृत निर्देश दिए हैं. उल्लेखनीय अक्षय तृतीया के अवसर पर प्रदेश में बाल विवाह कराए जाने की पुरानी परम्परा रही है.


इस परिपत्र में कहा गया है कि यदि वर या कन्या बाल विवाह के बाद विवाह को स्वीकार नहीं करते हैं तो बालिग होने के बाद विवाह को शून्य घोषित करने के लिए आवेदन कर सकते हैं. सरकार ने पटवारी, कोटवार, शिक्षकों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं ग्राम स्तरीय शासकीय अमले को ज़िम्मेदारी सौंपते हुए कहा है कि वह उन क्षेत्रों और जातियों को चिन्हित करें जहाँ इस तरह की परम्परा चली आ रही है. इसके साथ ही राज्य के हर गाँव की पंचायत में विवाह का पंजीकरण कराने की बात कही है. इस व्यवस्था में हर विवाह का रिकार्ड रहेगा और सरकार हर विवाह में वर वधु की उम्र का सत्यापन करायेगी ताकि यह पता चल सके कि कहीं बाल विवाह तो नहीं हो रहा है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top