Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

यूपी में है जंगलराज, सपा सरकार दे इस्‍तीफा: मायावती

 Girish Tiwari |  2016-06-03 08:33:00.0

mayawati


तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ:
बसपा प्रमुख मायावती ने यूपी के मथुरा में हुए हिंसा मेंं शहीद पुलिस अफसरोंं को श्रद्धांजलि देेते हुए यूपी सरकार से इस्तीफे की मांग की है। मायावती ने कहा कि शुक्रवार को धर्म की नगरी मथुरा में हुआ ख़ूनी संघर्ष दुखद और चिन्ताजनक है। साथ ही सपा सरकार के लिये शर्मनाक बताते हुये कहा कि इस अप्रिय घटना के लिये अखिलेश सरकार की अराजकतापूर्ण नीति पूर्ण रूप से जिम्मेदार है और यह सब यहाँ व्याप्त ’जंगल राज’ को दर्शाता है, जिसकी जिम्मेदारी लेते हुये वर्तमान सपा सरकार को तुरन्त ही इस्तीफा दे देना चाहिये।


साथ ही मायावती ने मुख्यमंत्री की कार्रवाई पर असंतोष जताते हुए कहा कि मामले की कमिश्नर स्तर की जांच महज खानापूर्ति करने जैसा कदम है। इस गंभीर मामले की तह तक जाने के लिए समयबद्ध न्यायिक जांच कराया जाना चाहिए।


मायावती ने कहा कि मथुरा ज़िले के जवाहरबाग पार्क के सरकारी जमीन पर अवैध कब्जे को लेकर हुये ख़ूनी संघर्ष में ख़ासकर एक एसपी और एक एसओ स्तर के पुलिस अधिकारी की मौत इस बात को साबित करती है कि वर्तमान सपा की लचर नीतियों के कारण राज्य सरकार का कोई भी विभाग ख़ासकर पुलिस महकमे में लोग अपनी क़ानूनी ज़िम्मेदारी निभाने में अपने आपको कितना ज़्यादा असहाय, असमर्थ व मजबूर पा रहे हैं।


इसके साथ ही मायावती ने कहा कि धर्म की नगरी मथुरा में हुए खूनी संघर्ष में पुलिस अफसरों समेत जान-माल की हानि दुखद और चिंताजनक है। इस अप्रिय घटना के लिए सपा सरकार की अराजकतापूर्ण नीति पूर्ण रूप से जिम्मेदार है और यह सब यहां व्याप्त 'जंगल राज' को दर्शाता है जिसकी जिम्मेदारी लेते हुए वर्तमान सपा सरकार को तुरन्त ही इस्तीफा दे देना चाहिए।


बासपा सुप्रीमो ने कहा कि मथुरा ज़िले के जवाहरबाग पार्क के सरकारी जमीन पर अवैध कब्जे को लेकर हुए ख़ूनी संघर्ष में ख़ासकर एक एसपी और एक एसओ स्तर के पुलिस अधिकारी की मौत इस बात को साबित करती है कि वर्तमान सपा की लचर नीतियों के कारण राज्य सरकार का किसी भी विभाग पर अंकुश नहीं है। ख़ासकर पुलिस महकमे में लोग अपनी कानूनी जिम्मेदारी निभाने में अपने आपको कितना ज़्यादा असहाय, असमर्थ महसूस कर रहे हैं।


मायावती ने कही कि सपा सरकार का सबसे बड़ा दोष यह है कि पिछले दो वर्ष से वहां अवैध कब्जा होने दिया।  कब्जाधारियों को इस हद तक छूट क्यों दी गई कि वे अवैध हथियार वहां जमा करते गए और यहां तक कि अवैध हथियार बनाने का कारखाना तक बना लिया। एसपी सिटी मुकुल द्विवेदी व साथ ही एक और पुलिस अधिकारी संतोष यादव को भी अपना कर्तव्य निभाते हुए अपनी जान खोनी पड़ी।


अब क्या उनके परिवार को अनुग्रह राशि देकर उनके परिवार व पुलिस फोर्स के प्रभावित हुए मनोबल की क्षतिपूर्ति की जा सकती है। सपा सरकार ऐसा सोचती है तो यह उसकी ग़लत सोच है। समय पर उचित कार्रवाई नहीं करना व दुखद घटना होने देना और फिर कथित तौर पर उसकी क्षतिपूर्ति घोषित करना सपा सरकार की विकृत मानसिकता को बताता है।


वर्तमान सपा सरकार में पुलिस फोर्स का मनोबल आज उनकी मांग के अनुकूल नहीं है और साथ ही असमाजिक तत्वों के साथ-साथ आपराधिक तत्वों का मनोबल इतना ज्यादा बढ़ गया है कि अब उत्तर प्रदेश में पुलिस बल व थानों तक पर हमला काफी ज़्यादा बढ़ गया है और इन घटनाओं में जवानों व अधिकारियों को जान तक गवानी पड़ रही है।


Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top