Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

अब कश्मीर में मीडिया ब्लैक आउट, सूचना के स्रोत बंद

 Tahlka News |  2016-07-17 07:12:42.0

अब कश्मीर में मीडिया ब्लैक आउट, सूचना के स्रोत बंद

तहलका न्यूज ब्यूरो

श्रीनगर. बीते 10 दिनों से अशांत कश्मीर घाटी में हिंसा अभी भी जारी है और माहौल तनावपूर्ण बना हुआ है. इस बीच राज्य सरकार ने कई स्थानीय समाचार पत्रों के कार्यालयों पर छापेमारी की, छपे अखबारों की प्रतिया जब्त कर ली और केबल टीवी का प्रसारण भी रोक दिया, जिससे घाटी में मीडिया ब्लैकआउट की स्थिति बन गई है.

8 दिनों से कर्फ्यू के कारण नारकीय जीवन जी रहे कश्मीरी लोगो के दुनिया से जुड़े रहने के आखिरी साधन भी बंद कर दिए गए हैं. कश्मीर में प्रतिदिन 200 से ज्यादा अखबार छपते हैं और 50 प्रतिशत की आबादी लोकल केबल नेटवर्क पर आश्रित है.

कश्मीर के हालत नियंत्रित करने में नाकाम रही राज्य और केंद्र की सरकार ने मोबाइल फोन और इंटरनेट के बाद अब प्रेस की आजादी पर हमला किया है. श्रीनगर में लोकल केबल और अखबारों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. बीती रात श्रीनगर में प्रशासन ने लोकल अखबारों के दफ्तरों पर छापेमारी कर अखबारों को छपने से रोक दिया.


कई प्रमुख अखबारों के छपे प्रतियों को जब्त कर लिया गया और दफ्तरों से कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया. राइजिंग कश्मीर के एडिटर इन चीफ शुजात बुखारी के अनुसार यह प्रेस की आजादी पर बड़ा हमला है. ऐसी चीजों से कोई समाधान नहीं निकल पाएगा. उन्होंने कहा कि सुबह सवेरे हमारी गाडि़यां जब्त की गईं. अगर हमें पहले ही बता दिया गया होता तो हम अखबार भेजते ही नहीं.

इस अचानक लगे प्रतिबंध के खिलाफ पत्रकारों ने श्रीनगर की प्रेस कालोनी के बाहर धरना देकर प्रेस की आजादी की आवाज बुलंद की.धरना देने वालों में सुजात के साथ ही बशीर मंजर, मसूद हुसैन शामिल थे.

शनिवार की रात प्रशासन ने  सभी केबल ऑपरेटरों को ट्रांसमीटर डाउन करने का फरमान सुना दिया और सभी चैनलों का प्रसारण रोकने का हुक्म दिया. पुलिस वालों ने खुद आकर सिग्नल डाउन करा दिया.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top