Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

जैश-ए-मोहम्मद के 3 आतंकियों में एक मेरा बेटा है, मेरठ के हिंदू परिवार ने किया दावा!

 Abhishek Tripathi |  2016-07-15 08:14:08.0

jaih_e_mohdतहलका न्यूज ब्यूरो
मेरठ. बीते दिनों लखनऊ की एक विशेष अदालत ने जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकियों को दोषी करार देने के साथ ही उम्र कैद की सजा सुनाई थी। अब इस मामले में एक नया मोड़ आ गया है। मेरठ के एक परिवार ने दावा किया है कि इन तीनों दोषियों में से एक उनका बेटा है।


बता दें कि तीनों आतंकियों की फोटो को देखकर इस परिवार ने दावा किया है कि इनमें से एक उनका बेटा प्रवीण है, जो 2006 से गायब है। मेरठ का यह परिवार प्रवीण की फोटो लेकर लखनऊ जेल मिलने भी पहुंचा, लेकिन मिलने नहीं दिया गया। जिसके बाद इस परिवार ने रिहाई मंच से जुड़े वकील शोएब से मुलाकात कर सारे साक्ष्य प्रस्तुत किए।


शोएब ने बताया कि परिवार का दावा है कि पुलिस और एसटीएफ ने जिस मोहम्मद आबिद उर्फ फत्ते मिर्जा को आतंकी बताकर गिरफ्तार किया है। दरअसल वह उनका बेटा प्रवीण है। परिवार ने कहा कि दिल्ली से सटे गाजियाबाद के पास मार्च 2006 में पुलिस एनकाउंटर में पांच हत्यारोपियों को मारा गिराया था। जिसके बाद पुलिस ने इस परिवार से कहा था कि इस एनकाउंटर में उनका बेटा भी मारा गया। उस एनकाउंटर में चार लोगों की शिनाख्त हो गई थी लेकिन एक की नहीं हो पाई थी। शोएब ने बताया की तभी से यह परिवार अपने बेटे की तलाश में पुलिस अधिकारियों के चक्कर लगा रहा है। इसको लेकर इलाहबाद हाईकोर्ट में एक रिट पिटिशन भी पेंडिंग है।


ऐसे में जब लखनऊ की अदालत ने देशद्रोह, विस्फोटक प्रदार्थ रखने और अन्य धाराओं में तीनों को दोषी करार दिया तो इनकी फोटो मीडिया में आई। जिसके बाद अब यह परिवार दावा कर रहा है कि फत्ते उनका बेटा प्रवीण हो सकता है। इस परिवार का कहना है कि एक बार वे उससे मिलकर तसल्ली कर लेना चाहते हैं। इसी को लेकर आज यूपी प्रेस क्लब में एक प्रेस कांफ्रेंस बुलाई गई है।


क्या है पूरा मामला?
लखनऊ की विशेष अदालत ने आतंकवादी गतिविधियों में लिप्त प्रतिबंधित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के 9 साल से जिला जेल में बंद 3 आतंकियों को गुरुवार को उम्रकैद की सजा सुनाई। साथ ही कोर्ट ने तीनों पर अलग-अलग 1 लाख 30 हजार रुपए का जुर्माना भी ठोंका है। इन पर आरोप था कि वे अपने विदेशी साथियों को छुड़ाने के लिए देश में जम्मू-कश्मीर के रास्ते घुसे, लेकिन किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने से पहले एक मुठभेड़ में एसटीएफ के हत्थे चढ़ गए। ये तीनों आरोपी मोहम्मद आबिद उर्फ फत्ते मिर्जा, राशिद बेग उर्फ राज कज्जाफी और शैफुर्ररहमान उर्फ यूसुफ हैं।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top