Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

बनारस की यह बुजुर्ग महिला है कैशलेस इंडिया की असली ब्रांड एम्बेसडर

 Vikas Tiwari |  2016-12-25 05:46:31.0

Varanasi, Banaras, Cashless, India, Aadhar, Misirpur, Asha Devi, Digital Transcation, Bank of Baroda


अनुराग तिवारी

वाराणसी. एक तरफ जहां लोग इंडिया के कैशलेस होने को असंभव मान रहे , वहीं ऐसी कहानियाँ भी सामने आ रही हैं जो इस मामले में काफी उत्साहजनक हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी की महिला गरीब भी है, बुजुर्ग भी और अनपढ़ भी है. लेकिन यह महिला अपनी चाय की दुकान पर स्वाइप मशीन लगाकर चाय के पैसे लेती है.

Varanasi, Banaras, Cashless, India, Aadhar, Misirpur, Asha Devi, Digital Transcation, Bank of Barodaवाराणसी के काशी विद्यापीठ ब्लाक के मिसिरपुर गाँव की रहने वाली लगभग 70 वर्षीया आशा देवी कैशलेस इंडिया की बेमिसाल उदहारण हैं. वे सुबह चार बजे अपनी चाय की दूकान खोल देती हैं और उसी समय से लोगों का उनकी दुकान पर तांता लग जाता है. बीते दिनों नोटबंदी के चलते लोगों के पास कैश की कमी हुई तो लोगों ने उनके यहां उधार चाय पीनी शुरू कर दी. जिससे आशा देवी काफी चिंतित हुईं. लेकिन उन्होंने जहां चाहा राह वहां राह वाली कहावत चरितार्थ कर दी.

Varanasi, Banaras, Cashless, India, Aadhar, Misirpur, Asha Devi, Digital Transcation, Bank of Barodaलगभग 10 दिन पहले इलाके के बैंक ऑफ़ बड़ोदा के डिप्टी जीएम शिशिर भूषण प्रसाद ने इस गाँव का दौरा किए और नोटबंदी की परेशानियों को देखते हुए, गाँव को कैशलेस बनाने की ठानी. उन्होंने बैंक की तरफ से गाँव में मुफ्त में पीओएस मशीनें बंटवानी शुरू कर दी. एक हफ्ते के अन्दर ही इस गाँव के 55 फीसदी दुकानदारों ने अपने यहां पीओएस मशीन लगा ली. इनमे आशा देवी भी शामिल हैं. हालांकि उन्होंने यह पीओएस मशीन अपने बेटे पन्ना मोदनवाल के अकाउंट पर ली है.

आशा देवी पीओएस मशीन लग जाने के बाद से खुश हैं. वे अब उधारी के संकट से उबर चुकी हैं. उनकी दूकान पर अगर कोई चाय पीने आता है तो खुले पैसे न होने का बहाना नहीं चलने देतीं. उससे मुस्कुराते हुए सीधा डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड की डिमांड कर देती हैं. पूछने पर वे कहती हैं, “अब उधारी ना होला भईया.” ऐसा उन्होंने लंका पर रहने वाले दवा व्यवसायी ब्रिजेश चन्द्र पाठक और आनंद शर्मा के साथ भी किया.

Varanasi, Banaras, Cashless, India, Aadhar, Misirpur, Asha Devi, Digital Transcation, Bank of Baroda

ब्रिजेश और आनंद अपने मित्र ज्ञानेंद्र से मिलने मिसिरपुर पहुंचे थे. ज्ञानेंद्र तो नहीं मिले, लेकिन लौटते समय इन दोनों ने आशा देवी की दुकान पर चाय पकौड़ी का नाश्ता किया. कुल बिल हुआ 33 रुपए का, लेकिन जब पैसे देने की बारी आई तो ब्रिजेश के पास 100 और 500 के नोट ही निकले. फुटकर आशा देवी के पास भी नहीं थे. उन्होंने मुस्कुराते हुए ब्रिजेश और आनंद के सामने अपनी पीओएस मशीन कर दी और उनसे अपना डेबिट या क्रेडिट कार्ड स्वाइप करने को कहा.

Varanasi, Banaras, Cashless, India, Aadhar, Misirpur, Asha Devi, Digital Transcation, Bank of Barodaब्रिजेश बताते हैं, उन्हें एक बुजुर्ग और अनपढ़ महिला के हाथ में पीओएस मशीन देखकर बड़ा सुखद आश्चर्य हुआ और उन्होंने एक गांव की चाय की दुकान पर 33 रुपए के बदले टिप सहित 50 रुपए का पेमेंट कर दिया. वहीँ आनंद ने गाँव के ही महेश पान वाले की दुकान से जब चिप्स के पैकेट खरीदे तो उन्होंने 10 रुपए का पेमेंट भी कार्ड से किया. आनंद ने महेश के पड़ोसी बीज और खाद के व्यवसायी शिव शंकर कि इस शिकायत पर कि उनका पीओएस नहीं चलता उन्हें भी 10 रुपए का पेमेंट कार्ड स्वाइप करके दिया. शिवशंकर ने अपना पीओएस काम करते देख आनंद को 10 रुपए नकद में वापस किए.

Varanasi, Banaras, Cashless, India, Aadhar, Misirpur, Asha Devi, Digital Transcation, Bank of Barodaबैंक ऑफ़ बड़ोदा के इंक्लूसिव बैंकिंग मैनेजर शैलेन्द्र बताते हैं कि लगभग पांच हजार की आबादी वाले मिसिरपुर की आधी आबादी कैशलेस ट्रांजेक्शन करना शुरू कर चुकी है और बाकियों ने भी इससे उत्साहित होकर कैशलेस होने के लिए अप्लाई कर रखा है.

Varanasi, Banaras, Cashless, India, Aadhar, Misirpur, Asha Devi, Digital Transcation, Bank of Baroda

वहीं बैंक ऑफ़ बड़ोदा के डिप्टी जीएम शिशिर भूषण प्रसाद का कहना है कि पीएम मोदी की आधार कार्ड और कैशलेस बनाए जाने के उत्साहजनक परिणाम मिल रहे हैं. जहां कहीं भी लोगों को समस्या आ रही है बैंक का फील्ड स्टाफ और बैंक मित्र उसे तुरंत दूर करने का प्रयास कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि कुछ पीओएस में नेटवर्क न मिलने की शिकायत आई है. उन पीओएस के सिम कार्ड बदलाकर दूसरे नेटवर्क ऑपरेटर के सिम कार्ड लगाए जा रहे हैं. उन्होंने बताया कि गाँव में बैंक मित्र के ऑफिस के पास फ्री वाई-फाई जोने भी क्रिएट किया गया है. इसके 50 मित्र के दायरे में आकर कोई भी नेटवर्क एक्सेस कर सकता है.

Varanasi, Banaras, Cashless, India, Aadhar, Misirpur, Asha Devi, Digital Transcation, Bank of Barodaवहीं इस गाँव में बैंक ऑफ़ बड़ोदा की बैंक मित्र शशि सिंह और उनके पति सुरेन्द्र नारायण सिंह भी खुश हैं. वे बताते हैं कि गांव के लोग कैशलेस योजना से इतने उत्साहित हैं कि छुट्टी के दिन भी आकार खता खुलवाने के प्रोसेस के बारे में जानकारी ले रहे हैं.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top