Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मन की बातः भारत की फुटबॉल रैंकिंग से PM दुखी, कहा- बोलने की हिम्मत नहीं पड़ रही

 Tahlka News |  2016-03-27 06:39:05.0

modi_1456640573_145905593


तहलका न्यूज ब्यूरो
नर्इ दिल्ली, 27 मार्च. नरेन्द्र मोदी ने रविवार को जनता के साथ 18th बार मन की बात की। प्रोग्राम शुरू करते ही पीएम ने देश वासियों को ईस्टर की शुभकामनाएं दी और खेल क्रांति का जिक्र किया। साथ ही टी-20 विश्वकप में भारत और ऑस्ट्रेलिया के मैच से ठीक पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दोनों टीमों को शुभकामनाएं दी। पीएम ने कहा कि टी-20 विश्वकप में भारत में ने दो महत्वपूर्ण जीत दर्ज की। आज के मैच के लिए दोनों टीमों को शुभकामना।


भारत में फुटबॉल की हालत का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा‌ कि फीफा में हमारी रैंकिंग इतनी नीचे है कि मेरी बोलने की हिम्मत नहीं पड़ रही। उन्होंने कहा कि हम सबको कोशिश होनी चाहिए हम फुटबॉल को गांव-गांव, गली-गली में कैसे पहुंचाएं। पीएम ने कहा कि भारत 2017 में अंडर-17 फीफा विश्वकप की मेजबानी कर रहा है। ये एक अवसर है कि जब हम अपने युवाओं में फुटबॉल का जोश भर सकते हैं। उन्होंने कहा कि फीफा विश्वकप भारत के लिए खुद को ब्रांड के रूप में पेश करने का एक महत्वपूर्ण अवसर होगा।
पीएम मोदी ने इस दौरन कहा कि छुट्टियों में घूमने जाएं तो फोटो खींचकर लाएं और शेयर करें तो उसके साथ कुछ लिखें। नई जगह के बारे में लिखें, इससे हमारे टूरिज्म को नई ऊंचाई मिलेगी। आप टाइपिंग, स्विमंग कुछ भी ऐसा सीख सकते हैं जो आपको नहीं आता हो।

मन की बात में मैसूर से शिल्पा बुद्धे ने पूछा- अखबार ,बर्तन,कपड़े बेचने वाले आते हैं, क्या हमने उन्हें कभी पानी ऑफर किया है? मोदी ने कहा, ''बालक ने मुझे फोन कर एक अच्छा काम याद दिला दिया, गर्मियों के दिनों में अपने घऱ के बाहर पानी रखें, अब कई चिड़ियां उसकी दोस्त बन गई हैं। मैं अभी को थैंक्स कहता हूं।'' ''देशवासियों को सोचना होगा- पानी के बगैर क्या होगा। क्या हम अपने आसपास पानी को जमा करने वाली पुरानी जगहों को दुबारा से पानी बचाने के लिए तैयार कर सकते हैं क्या। आने वाले समय में पानी बचाना है। एक ऐसा जनआंदोलन खड़ा करें कि लोग जागरुक हों और पानी बचाने के लिए खुद तैयार हों।''


पीएम मोदी ने कहा कि 7 अप्रैल को वर्ल्ड हेल्थ डे है। इस बार फोकस डायबिटीज पर है। यह हमारे घरों का बिन बुलाया मेहमान है। डायबिटीज हमारी लाइफ स्टाइल की वजह से होता है। कम से कम घूमने तो जाएं। खेल भी ऑनलाइन खेलते हैं।

डिजिटल इंडिया बहुत सुना होगा, यह सिर्फ नौजवानों की दुनिया नहीं है। किसान सुविधा एप को अपने मोबाइल फोन में डाउनलोड करें तो आपको खेती से जुड़ी बहुत सारी जानकारियां मिल जाएंगी। बाजार कैसा है, किस फसल का क्या भाव है, कौन सी दवाई डालनी है, आप एग्रीकल्चर के एक्सपर्ट के साथ जोड़ देता है। काम आता है तो अच्छी बात कमी महसूस होती है तो शिकायत कीजिए।

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top