Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

बसपा की लांड्री ने धो दिये इस बाहुबली विधायक के अपराध

 shabahat |  2017-01-26 13:29:33.0

बसपा की लांड्री ने धो दिये इस बाहुबली विधायक के अपराध



शबाहत हुसैन विजेता

लखनऊ. पूर्वांचल के माफिया सरगना विधायक मुख्तार अंसारी को आज बसपा सुप्रीमो मायावती ने पाक साफ़ होने का सार्टिफिकेट दे दिया. हालांकि वह अभी भी जेल में ही हैं लेकिन बसपा की लांड्री में आज उनके सारे अपराध धुल गये. मुख्तार के परिवार और पार्टी को आज अभयदान देते हुए मायावती ने अपने आवास पर बुलाया और उन्हें अपनी पार्टी में शामिल करते हुए मुख्तार अंसारी को मऊ की उनकी परम्परागत सीट से टिकट दे दिया. घोसी से मुख्तार के बेटे अब्बास अंसारी और गाज़ीपुर की मोहमदाबाद सीट से मुख्तार के भाई सिगबतउल्ला अंसारी को टिकट दे दिया.

मायावती के माल एवेन्यू स्थित आवास के पोर्टिको में आज शाम पांच बजे पत्रकारों को बुलाया गया. पोर्टिको में रखे गये डायस के ठीक पीछे वाला दरवाज़ा खुला और उसमें से बसपा सुप्रीमो मायावती के साथ पार्टी महासचिव सतीश चन्द्र मिश्र और नसीमुद्दीन सिद्दीकी बाहर आये. मायावती ने आने के बाद समाजवादी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के भीतर छुपे हार के डर का खुलासा किया और मुख्तार अंसारी को पाक साफ़ छवि वाला क़रार दिया.



मायावती ने कहा कि 2005 में जब कृष्णानन्द राय की हत्या हुई तब मुख्तार जेल में थे. कोई जेल में रहते हुए हत्या कैसे कर सकता है. उन्होंने कहा कि मुख्तार पहले भी बसपा से विधायक और सांसदी का चुनाव लड़ चुके हैं. हमें पता है कि वह अपराधी नहीं हैं, इसलिये हमने फैसला किया है कि हम उन्हें और उनके परिवार को बसपा में शामिल करेंगे. हमने उनकी पार्टी कौमी एकता दल का भी बसपा में विलय कर लिया है.

मायावती की इस घोषणा के साथ ही पीछे वाला दरवाज़ा एक बार फिर खुला. इस बार पूर्व सांसद और मुख्तार अंसारी के भाई अफजाल अंसारी, विधायक सिगबतउल्ला अंसारी, हाईकोर्ट के पूर्व जज सभाजीत सिंह बाहर आये. अफजाल अंसारी और सभाजीत सिंह को मायावती की मौजूदगी में बोलने का मौक़ा दिया गया. दोनों ने मायावती के कसीदे पढ़े. अफजाल अंसारी ने कहा कि उन्हें कोई पद नहीं चाहिये. वह बसपा में चौकीदार बनकर रहेंगे. सभाजीत सिंह ने कहा कि वह हाईकोर्ट में 9 साल जज रहे हैं. समाजवादी पार्टी की सरकार ने कन्नौज, इटावा और फिरोजाबाद के अलावा कहीं कुछ नहीं किया. अब अखिलेश अगली सरकार में स्मार्ट फोन देना चाहते हैं तो मायावती नौजवानों को रोज़गार देना चाहती हैं. इसी वजह से मैं बसपा में आया, ताकि यहाँ रहकर समाजसेवा कर सकूं. मायावती के घर के पोर्टिको में माफिया मुख्तार अंसारी के पैरोकार और इलाहाबाद हाईकोर्ट के पूर्व जज सभाजीत सिंह साथ-साथ मौजूद थे.

बसपा में मुख्तार के परिवार और एक जस्टिस के शामिल होने के बाद जब मुख्तार अंसारी के अपराधों पर सवाल उठा तो मायावती मुख्तार के खिलाफ पत्रकारों से ही सबूत मांगने लगीं. उन्होंने कहा कि अपराधी तो अतीक है, राजा भैया है, ब्रज भूषन शरण सिंह है. मुख्तार की तो सीबीआई तक ने जांच कर ली और कहीं कुछ साबित नहीं हुआ फिर भी मुख्तार को अपराधी बताया जाता है. इस सफाई के बाद जब यह सवाल उठा कि मुख्तार जेल में क्या जेल विजिटर की हैसियत से हैं? इस सवाल के बाद मायावती और उनके साथ आये सभी लोग मुड़े और घर के भीतर चले गये इसी के साथ घर का दरवाज़ा भी बंद हो गया.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top