Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

यूपी चुनावों में कानून ताक पर रख यहां से बहाई जा रही मदिरा की दरिया

 Anurag Tiwari |  2017-02-14 07:44:49.0

यूपी चुनावों में कानून ताक पर रख यहां से बहाई जा रही मदिरा की दरिया

तहलका न्यूज ब्यूरो

लखनऊ.
वोटरों को शराब से रिझाने के लिए कैंडिडेट्स ने चुनावी आचार संहिता का तोड़ निकाल लिया है. सस्ती शाराब लाने के लिए उन्होंने नया ठिकाना भी खोज लिया है.

कैंडिडेट्स अब वोटरों को लुभाने के लिए सस्ती नेपाली शराब का सहारा ले रहे हैं. यूपी से सटे इंडो-नेपाल बॉर्डर पर यह खेल खुलेआम चल रहा है. सीमा से सटे इलाकों में अवैध तरीके से नेपाली शराब की खेप जमा की जा रही है, ताकि उसे वोटिंग से पहले बांटा जा सके.

नेपाली शराब नेपाल के सीमावर्ती इलाकों महेशपुर, भुजहवा, गेरमा जैसी जगहों से लाकर भारत के बॉर्डर वाले जिलों में डंप की जा रही है. इस शराब को सीमा के पास स्थित भारतीय क्षेत्र में बने घरों में रखा जा रहा है. नेपाली शराब सस्ती होने के चलते कैंडिडेट्स के लिए फायदे का सौदा साबित ही रही है. कम अपिसे खर्च कर कैंडिडेट्स बड़ी संख्या में वोटर को अपने पक्ष में लुभाने की तैयार में हैं.



प्रचलित नेपाली शराब सोफी, कर्णाली और लीची ब्रांड की 180 एमएल की बोतल महज 25 रुपए में बिकती है. सीमा पर एसएसबी और पुलिस की चौकसी होने के चलते इसको लाने के लिए शराब तस्कर पगडंडी का सहारा ले रहे हैं. इन पगडंडियों से झोले में लाई गई नेपाली शराब इन्डो नेपाल बॉर्डर के गांव में रखकर रात के दस बजे के बाद जरूरत के हिसाब से घर-घर पहुंचाई जाती है. इस धंधे में शराब तस्कर ज्यादातर बैग और झोला का प्रयोग करते हैं, जिसे मोटरसाइकिल पर लाद, डिमांड के अनुसार पहुंचा दिया जाता है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top