Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

सीएम योगी ट्रामा सेंटर जाकर मिले एसिड अटैक विक्टिम से, एडीजी रेलवे हुए तलब

 Anurag Tiwari |  2017-03-24 07:34:19.0

सीएम योगी ट्रामा सेंटर जाकर मिले एसिड अटैक विक्टिम से, एडीजी रेलवे हुए तलब

तहलका न्यूज ब्यूरो


लखनऊ.
गुरुवार को एसिड अटैक पीड़िता पर एक बार फिर हुए एसिड अटैक को यूपी के सीएम आदित्यनाथ योगी ने गंभीरता से लिया है. उन्होंने केजीएमयू के ट्रामा सेंटर जाकर खुद पीड़िता से मुलाकात की और उसे फौरी राहत के तौर पर एक लाख रूपये का चेक दिया. यही नहीं सीएम ने इस मामले में एडीजी रेलवे को भी तलब किया है. सीएम ने इस मामले में अपराधियों की तुरंत गिरफ्तारी के आदेश भी दिए हैं.

सीएम आदित्यनाथ योगी को इस मामले की जानकारी सोशल मीडिया के जरिये हुई थी. जिसके बाद उन्होंने यह कदम उठाया है. एसिड अटैक सर्वाइवर्स द्वारा चलाए जा रही एक संस्था सदस्य अनिता को गुरुवार को कुछ दबंगों ने लखनऊ के मोहनलालगंज स्टेशन के पास चलती ट्रेन में जबरन तेजाब पिलाकर मारने की कोशिश की थी. अनीता को गंभीर हालत में लखनऊ की किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के ट्रामा सेंटर में एडिमट कराया गया.


अपनी बेटी को हाईस्कूल की परीक्षा दिलाने के लिये अनिता 10 मार्च को कैफे से छुट्टी लेकर घर गई थीं. गुरुवार को वे रायबरेली से वापस लखनऊ लौट रही थीं और इसी की जानकारी पाकर अपराधियों ने विमला पर चलती ट्रेन मे हमला कर दिया. मोहनलालगंज के पास उन्हें जबरन एसिड पिलाया गया. ट्रेन के लखनऊ पहुँचने के बाद अनिता मदद के लिए जीआरपी थाने की तरफ जा रहीं थीं और प्लेटफार्म पर ही बेहोश हो गयीं. उनको बेहोशी की हालत में जरप की एक महिला दरोगा ने देखा और उनके पास मिले कागजात के आधार पर उनके संस्था के साथियों को इन्फॉर्म किया. साथ ही उन्हें एम्बुलेंस द्वारा ट्रौमा सेंटर भिजवाने की व्यवस्था की गई.

अनिता के साथ 2009 में उनके गांव के ही कुछ दबंगों ने गैंगरेप किया था और उन्हें धमकी दी कि अगर उन्होने इस मामले में कानूनी कार्यवाही की तो जान गंवानी पड़ेगी. अनीता ने रायबरेली जिले के ऊंचाहार थाने में इस बारे में सूचना दी थी लेकिन पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की. अनीता लंबे समय तक संघर्ष करने के बाद एफआईआर लिखवाने में सफल हुईं थीं. लेकिन इस मामले में किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई. एक बार फिर 2011 में अनिता पर चाकू से हमला किया गया. एक बार फिर, इस घटना की एफआईआर तो दर्ज हुई लेकिन आरोपियों पर कोई कार्यवाही नहीं हुई. साल 2012 में भी विमला पर जानलेवा हमला किया गया और इस बारे में पुलिस फिर कुछ न कर सकी. अनिता ने हिम्मत खो दी थी लेकिन वह कुछ लोगों की मदद से लड़ती रही. एक बार फिर 2013 में विमला पर उन्ही दबंगों ने एसिड अटैक कर दिया जिससे उनका शरीर बुरी तरह झुलस गया था.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top