Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

GST पर लोकसभा में होगी चर्चा, पेश होंगे 4 बिल, डिबेट के लिए 7 घंटे का समय

 Abhishek Tripathi |  2017-03-29 04:24:59.0

GST पर लोकसभा में होगी चर्चा, पेश होंगे 4 बिल, डिबेट के लिए 7 घंटे का समय

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
नई दिल्ली. देश के आर्थिक सुधार की दिशा में सबसे बड़े कदम करार दिए जा रहे वस्तु व सेवा कर (जीएसटी) पर लोकसभा में बुधवार को चर्चा होनी है। सरकार को उम्‍मीद है कि इन बिलों को पास करा लिया जाएगा। यह बिल संसद में सोमवार को पेश किए गए थे। सरकार का इरादा 1 जुलाई से इसे लागू करने का है। इन बिलों में सेंट्रल जीएसटी (C-GST), इंटिग्रेटेड जीएसटी (आई-GST), यूनियन जीएसटी (यूटी-GST) और मुआवजा कानून बिल शामिल हैं। इन बिलों में अधिकतम 40 फीसदी जीएसटी के अलावा टैक्‍स चोरी करने वालों की गिरफ्तारी का भी प्रावधान है। बिल पर चर्चा के लिए सरकार ने करीब 7 घंटे का समय रखा है, ताकि सभी दलों के सांसदों को अपना पक्ष रखने का भरपूर अवसर मिल सके।

इससे पहले वित्त मंत्री ने इस बिल के तकनीकी पहलुओं को भाजपा सांसदों के बीच रखा। जीएसटी बिल को देश के लिए अहम करार देते हुए जेटली ने कहा कि इसे संसद में सर्वसम्मति से पारित करवाने का प्रयास होगा। वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि जीएसटी प्रणाली लागू करने से जुड़े विधेयक साझी सम्प्रभुत्ता के सिद्धांत पर आधारित है और सरकार इन ऐतिहासिक कर सुधारों को आम सहमति से पारित कराना चाहती है।

वर्तमान स्वरूप में जीएसटी विधेयक मंजूर नहीं: कांग्रेस
वहीं कांग्रेस को जीएसटी विधेयक वर्तमान स्वरूप में स्वीकार्य नहीं है, लेकिन पार्टी इस मामले में सतर्कतापूर्ण ढंग से आगे बढ़ेगी, ताकि उसे इस महत्वपूर्ण कर सुधार उपाय के विरोधी के रूप में नहीं देखा जाए।

जम्मू-कश्मीर छोड़कर समूचे देश में होगा लागू
यह विधेयक जम्मू एवं कश्मीर को छोड़कर समूचे देश में लागू होगा। हालांकि, उद्योग जगत ने इस कदम का स्वागत करते हुए एक जुलाई को लागू करने की इसकी तिथि को आगे बढ़ाने की अपील की है, ताकि वे इसे लेकर तैयार हो सके।

टैक्स की दर चार स्तरीय
बता दें कि जीएसटी में करों की दरों को चार स्तरीय रखा गया है। जीएसटी परिषद ने करों की दरों को 5 फीसदी, 12 फीसदी, 18 फीसदी और 28 फीसदी के ढांचे में रखने की मंजूरी दी है। वहीं, इसमें करों की अधिकतम दर 40 फीसदी तक रखने की बात कही गई है, लेकिन उसे केवल वित्तीय आपातकाल के मौके पर ही लागू किया जाएगा।

Tags:    

Abhishek Tripathi ( 2165 )

Tahlka News Contributors help bring you the latest news around you.


  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top