Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

इस कम्पनी ने कुछ ही दिनों में कमा लिये 37 अरब

 shabahat |  2017-02-02 15:20:00.0

इस कम्पनी ने कुछ ही दिनों में कमा लिये 37 अरब


तहलका न्यूज़ ब्यूरो

लखनऊ. घर बैठे थोड़ा समय इन्टरनेट पर देकर हर महीने कमायें 20 से 50 हज़ार रूपये. यह आपकी अतिरिक्त आमदनी होगी. आप जो कर रहे हैं उसके साथ ही इस बिजनेस में जुड़ सकते हैं. ऐसे लुभावने विज्ञापन अक्सर विभिन्न वेबसाईट पर पढ़ने को मिलते रहते हैं. इस तरह के लुभावने विज्ञापन देने वाली एक कम्पनी के डायरेक्टर को एसटीएफ ने नोयडा में दबोचा तो इस चमकीले विज्ञापन की हकीकत से खुद एसटीएफ भी भौंचक्की रह गई.

एसटीएफ को शिकायत मिली कि इन्टरनेट पर घर बैठे पैसा कमाने का विज्ञापन देने वाली यह कम्पनी इच्छुक लोगों से सदस्य बनने के लिये 5750 रुपये अपने खाते में जमा करवाती थी और यह बताती थी कि सदस्य बन जाने के बाद कम्पनी एक पोर्टल का लिंक भेजेगी. इस पोर्टल पर दी गई सामग्री को सिर्फ लाइक करने का काम होगा और हर लाइक पर 5 रुपये मिलेंगे. इस पोर्टल पर सदस्य जितना ज्यादा समय देगा और जितने ज्यादा लाइक करेगा उतने ही पैसे उसके खाते में पहुँच जायेंगे.

एसटीएफ ने जांच की तो यह पाया कि गाज़ियाबाद के अनुभव मित्तल ने एक फर्जी कम्पनी बनाकर कुछ ही समय में लगभग साढे छः लाख लोगों से धोखाधड़ी करके 37 सौ करोड़ रूपये से अधिक की कमाई कर ली. लोगों को बेवकूफ बनाकर उनसे पैसे वसूलने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए एसटीएफ ने सरगना समेत तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है.

पहली फरवरी को एसटीएफ ने एफ-471 सेक्टर-63 नौएडा आन लाइन सोशल मीडिया पोर्टल बनाकर लाखो लोगों से मेम्बरशिप धनराशि के नाम पर लगभग 37 अरब रूपये की धोखाधडी किये जाने के मामले का पर्दाफाश करते हुए गिरेाह के सरगना/निदेशक अनुभव मित्तल, सीईओ श्रीधर तथा टैक्निकल हैण्ड महेश दयाल को गिरफ्तार किया है. कम्पनी के नाम से गाज़ियाबाद के केनरा बैंक में खोले गये तीन खातों में करीब 500 करोड़ रुपये जमा किये गये हैं. एसटीएफ को पड़ताल में पता चला है कि इस फर्जीवाड़े में 37 अरब रुपये कमाये गये हैं.

एसटीएफ के एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि जानकारी मिलने के बाद अपर पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्र और के निर्देशन एवं गौतमबुद्ध नगर के डिप्टी एसपी (पश्चिम) राजकुमार मिश्रा के नेतृत्व में गठित एसटीएफ टीमों द्वारा जनपद गौतमबुद्धनगर एवं उसके आसपास के जनपदों में अभिसूचना संकलन की कार्यवाही की गई तो पूरे फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ. यह लोग एसटीएफ के राडार पर इसलिए आ गये क्योंकि यह लोग ऑनलाइन तकनीक से एक खाते से दूसरे खाते में बहुत बड़ी-बड़ी रक़म बहुत जल्दी-जल्दी ट्रांसफर कर रहे थे. यह प्रक्रिया अस्वाभाविक लगी और इनकी पड़ताल शुरू हो गई.

मुख्य अभियुक्त अनुभव मित्तल कम्प्यूटर साइंस में बीटेक है. इसने यह कम्पनी बनाई और अपने साथ-साथ अपने पिता सुनील मित्तल को डायरेक्टर बना दिया. कम्पनी का पता चांदनी चौक दिल्ली का बताया जबकि जांच में बताये गए पते पर इसका आफिस नहीं मिला. सुनील मित्तल हापुड़ में मित्तल इलैक्टोनिक्स के नाम से एक दुकान चलाते हैं.

इस कम्पनी का सीईओ श्रीधर प्रसाद 1994 में बीकाम के बाद दिल्ली के एनआईए इंस्टीटयूट से एमबीए है. इसने 1996 में उषा माटेन टेलीकाम कंपनी में सेल्स के पद पर कार्य किया और सेल्स मैनेजर के पद पर पहुँच गया. 2001 में विजिया कन्सलटेन्सी हैदराबाद में बिजनेस डैवलपर के पद पर कार्य किया. इस दौरान कई बार यूके भी गया. इसको छोडकर 2005 से लेकर 2009 तक आईबीएम में कन्ट्ररी हेड के रूप में साफटवेयर सोल्यूशन बैंगलोर के पद पर कार्य किया. 2010 में औरेकिल कंपनी के नाईजीरिया में सहायक बिजनेस डेवलपर के रूप में योगदान दिया। 2013 में बैंगलौर वापस आकर एक स्टार्टअप मूवएन सिंक किया. बहुत सफल न होने के कारण 2014 में वापस नाईजीरिया में उसी कंपनी में चला गया.

श्रीधर की पत्नी ने 2016 में अनुभव की कम्पनी की मेम्बरशिप ले ली और बिजनेस माडल को समझने के चक्कर में कई बार श्रीधर की अनुभव मित्तल से सम्पर्क हुआ और लगभग 6 माह पूर्व अनुभव मित्तल की कम्पनी में श्रीधर ने मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सी.ई.ओ.) के पद पर कार्य करना शुरू कर दिया.

यह कम्पनी 5,750/- रूपये, 11,500/- रूपये, 28,750/- रूपये और 57,500/- रूपये लेकर सदस्य बनाती थी और एक यूज़र आईडी और पासवर्ड देती थी. सदस्य लागिन करने के बाद पोर्टल से जुड़ जाता थी. इससे जुड़ने वाले लोग कम्पनी को पैसा भी देते थे और जल्दी यह बात समझ भी नहीं पाते थे कि वह ठग लिये गये हैं.

Tags:    

shabahat ( 2177 )

Tahlka News Contributors help bring you the latest news around you.


  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top