Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

आरडीएसओ और रेलवे बोर्ड के बीच फंस गई लखनऊ मेट्रो

 shabahat |  2017-03-22 13:27:00.0

आरडीएसओ और रेलवे बोर्ड के बीच फंस गई लखनऊ मेट्रो


तहलका न्यूज़ ब्यूरो

लखनऊ. यूपी में निजाम बदलने से पुराने निजाम के ख्वाब सरकारी महकमों के लिये उतने महत्वपूर्ण नहीं रह गये हैं. बात लखनऊ मेट्रो की करें तो पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के इस ड्रीम प्रोजेक्ट की तेज़ी में अब ब्रेक लगता नज़र अ रहा है. अखिलेश यादव ने लखनऊ मेट्रो को रिकॉर्ड समय में दौड़ाने का एलान किया था. उन्होंने रिकार्ड समय में इसका ट्रायल रन भी करवा दिया था. पहली दिसम्बर को हुए ट्रायल के बाद मुख्यमंत्री ने 4 महीने के बाद की डेडलाइन तय की थी उसके सिर्फ पांच दिन ही बाकी बचे हैं और इन पांच दिनों पटरियों पर दौड़ती मेट्रो दिखना संभव नहीं है.

मेट्रो समय से नहीं दौड़ पायेगी यह बात खुद अखिलेश यादव भी अपने कार्यकाल के आख़री समय में समझ गए थे. उन्होंने कहा भी था कि मेट्रो चलाने के लिये रेलवे से एनओसी ज़रूरी होती है. उन्होंने कहा था कि यह एक प्रोसेस है. सरकार ने रेलवे से एनओसी माँगी है. फ़ाइल चल रही है. एनओसी मिलते ही मेट्रो दौड़ेगी.

अखिलेश यादव ने सही कहा था कि एनओसी नहीं मिली है. लखनऊ मेट्रो को अब तक आरडीएसओ द्वारा किये गए ओसीलेशन ट्रायल की रिपोर्ट रेलवे बोर्ड से नहीं मिली है. इन हालात में सिर्फ 9 दिनों में रेल संरक्षा आयुक्त से क्लीयरेंस मिल पाना संभव नहीं दिखता. इसके साथ-साथ अब तक मेट्रो के सवारी डिब्बे भी लखनऊ नहीं पहुंचे हैं. रेलवे बोर्ड से सहमति के बाद ही मेट्रो का पब्लिक कामर्शियल संचालन शुरू हो पायेगा.

लखनऊ मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने पहली दिसम्बर 2016 को ट्रायल करने में सफलता पाने के बाद चार महीने बाद लखनऊ मेट्रो का पब्लिक कमर्शियल संचालन शुरू कर देने की उम्मीद ज़ाहिर की थी. हालांकि लखनऊ मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने अपनी तरफ से सभी औपचारिकताएं पूरी कर ली हैं लेकिन आरडीएसओ और रेलवे बोर्ड के बीच लखनऊ मेट्रो का प्रोजेक्ट फंस गया है.

Tags:    

shabahat ( 2177 )

Tahlka News Contributors help bring you the latest news around you.


  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top