Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

अमेरिका और भारत से घबराये पाकिस्तान ने माना, आतंकी है हाफ़िज़ सईद

 shabahat |  2017-02-21 12:54:12.0

अमेरिका और भारत से घबराये पाकिस्तान ने माना, आतंकी है हाफ़िज़ सईद


नई दिल्ली. पाकिस्तान में अचानक बढ़ी आतंकी गतिविधियों के बीच पाकिस्तान को यह बात अच्छी तरह से समझ आ गई है कि अगर उसने हाफ़िज़ सईद के खिलाफ माकूल कार्रवाई नहीं की तो हो सकता है कि अमेरिका हाफिज सईद के खिलाफ भी ओसामा बिन लादेन जैसी कार्रवाई को अंजाम दे दे. मुम्बई और पठानकोट हमले का मास्टर माइंड और जमात – उद - दावा का सरगना हाफ़िज़ सईद कुख्यात आतंकी है यह बात आखिर पाकिस्तान ने मान ली है. पाकिस्तान ने जमात-उद-दावा के सरगना को आतंकी सूची में डाल दिया है. पाकिस्तान की इस कार्रवाई को अमेरिका और भारत के बीच बन रहे बेहतर तालमेल का दबाव भी माना जा रहा है.

पाकिस्तान को जब यह पता चला कि अमेरिका के नव निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बीच टेलीफोन पर हुई बातचीत में केवल आतंकवाद ही मुद्दा रहा है और ट्रंप ने इस बातचीत में कहा है कि आतंकवाद पर सिर्फ बातचीत ही नहीं होगी बल्कि साझा एक्शन भी होगा.

भारत लगातार हाफ़िज़ सईद के खिलाफ पाकिस्तान को सबूत देता रहा है और उसे यह बताता रहा है कि पठानकोट और मुम्बई हमले का मास्टरमाइंड हाफ़िज़ सईद ही है. पाकिस्तान ने इस बात पर ध्यान नहीं दिया लेकिन जैसे ही उसे इस बात की जानकारी मिली कि अमेरिका और भारत आतंकवाद मुद्दे पर साझा कार्रवाई करने के मूड में हैं, उसने फ़ौरन यह बात लिखित में मान ली कि सईद आतंकी है और उसे नज़रबंद भी कर दिया.

मुम्बई हमले का मास्टरमाइंड हाफ़िज़ सईद अमेरिका के भी राडार पर है क्योंकि उस हमले में कई अमेरिकी नागरिकों की भी मौत हुई थी. अमेरिका की जांच एजेंसी एफबीआई मुम्बई मामले की जांच में भारत का सहयोग भी कर रही है. ऐसे में अमेरिका सबसे पहले पाकिस्तान को मिलने वाली सहायता राशि को रोक सकता है.

खुद की गर्दन बचाने के लिये पाकिस्तान ने जमात उद दावा के सरगना हाफिज सईद समाज को समाज के लिये गंभीर खतरा मान लिया है. म्यूनिख में हुए सुरक्षा सम्मेलन में पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने रविवार को यह बात मान ली है.

हाफ़िज़ सईद को आतंकी सूची में डालने की पाकिस्तान की कार्रवाई को भारत ने तर्कसंगत कदम करार दिया है. भारत ने कहा है कि जमात-उद-दावा सरगना को न्याय के दायरे में लाना आतंक के खिलाफ पाकिस्तान का पहला तर्कसंगत कदम है. उधर अफगानिस्तान की नेशनल असेम्बली के अध्यक्ष अब्दुल रऊफ इब्राहिमी ने भी कहा है कि सईद एक हत्यारा है और उसके खिलाफ हर हाल में कार्रवाई करनी चाहिए. उन्होंने कहा है कि आतंक पर काबू पाने के लिये उसे खत्म करना जरूरी है.

Tags:    

shabahat ( 2177 )

Tahlka News Contributors help bring you the latest news around you.


  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top