Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

गुजरात में IS के दो संदिग्ध गिरफ्तार, करने वाले थे 'लोन वुल्फ' अटैक

 Girish |  2017-02-26 09:51:45.0

गुजरात में IS के दो संदिग्ध गिरफ्तार, करने वाले थे लोन वुल्फ अटैक

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
नई दिल्ली: गुजरात में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के दो संदिग्ध सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। गुजरात एटीएस ने इन्हें देश में आतंकी हमलों की साजिश रचने के आरोप में अरेस्ट किया है। आरोप है कि दोनों ट्विटर, फेसबुक और टेलीग्राम नाम के मैसेजिंग एप के जरिए आईएसआईएस के संपर्क में थे।


एटीएस के माने तो ये दोनों संदिग्ध गुजरात के पटाखा मैन्युफैक्चरर्स से केमिकल विस्फोटक एकत्र करने की योजना बना रहे थे। वसीम और नाथिन नाम के इन दो भाइयों को एटीएस ने क्रमश: राजकोट और भावनगर से अरेस्ट किया गया है। एटीएस की ओर से लॉन्च किए गए सर्च ऑपरेशन में इन दोनों को अरेस्ट किया गया है।


सूत्रों के मुताबिक, इनमें से एक क्रिकेट अंपायर आरिफ रामोदिया का बेटा और दूसरा भाई है. आरिफ हाल ही में सौराष्ट्र यूनिवर्सिटी से रिटायर हुए हैं. उनका परिवार राजकोट के नेहरूनगर इलाके में रहता है।


संदिग्धों के पास से देसी बम, गन पाउडर, मास्क, कंप्यूटर समेत काफी सामान जब्त किया गया है. उनके कंप्यूटर और मोबाइल फोन से प्रतिबंधित साहित्य सामग्री भी बरामद की गई है।


बता दें कि इसी महीने की शुरुआत में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने केरल से एक शख्स को इस्लामिक स्टेट से संपर्क रखने के आरोप में अरेस्ट किया था। इससे पहले पिछले साल राजस्थान एटीएस ने सीकर जिले से कथित आईएस ऑपरेटिव को अरेस्ट किया था। इस शख्स पर आईएस के लिए दुबई से फंडिंग जुटाने का आरोप था।


क्या होता है 'लोन वुल्फ' अटैक

'लोन वुल्फ' अटैक का मतलब ऐसा घातक हमला जिसे बिना टीम के अंजाम दिया जाता है। इस हमले के मॉड्यूल में अकेला आतंकी ही ऐसे हमले को अंजाम दे सकता है, जिसमें वह ज्यादा से ज्यादा लोगों को अपनी जद में ले सके. दरअसल 'लोन वुल्फ' अटैक भेड़िए की तरह अकेले हमला करने की रणनीति है इस अटैक में छोटे हथियारों, चाकुओं, ग्रेनेड का इस्‍तेमाल किया जाता है। ये ग्रुप लीडर से जुड़े बिना हमला करते हैं।


ISIS की मैगजीन में है 'लोन वुल्फ' अटैक का जिक्र

ऐसे में सुरक्षा एजेंसियों के लिए किसी अकेले आतंकी के काम करने का पता लगाना काफी मुश्किल हो जाता है। ऐसे हमले काफी कम खर्च में अंजाम दिए जाते हैं। हालांकि कई बार इसमें आतंकियों का ग्रुप भी शामिल हो जाता है. बता दें कि आईएसआईएस की मैगजीन 'इंसपायर' में ऐसे हमले के बारे में जिक्र किया गया है।


Girish ( 4001 )

Tahlka News Contributors help bring you the latest news around you.


  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top