Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

योगी के पास पहुंची ऐसी फाइल, मांग रही है उनके खिलाफ मुकदमा चलाने की परमिशन?

 Anurag Tiwari |  2017-03-23 04:36:09.0

योगी के पास पहुंची ऐसी फाइल, मांग रही है उनके खिलाफ मुकदमा चलाने की परमिशन?

तहलका न्यूज ब्यूरो
लखनऊ. आदित्यनाथ योगी जबसे सीएम बने हैं अपने जनहित वाले ताबड़तोड़ फैसलों के चलते सुर्ख़ियों में बने हुए हैं. बुधवार को उन्होंने अपने मंत्रियों को विभाग बांटे हैं. इस बंटवारे में सीएम योगी ने अपने पास गृह विभाग भी रखा है. इसी गृह विभाग में आई एक फाइल ने सीएम को धर्म संकट में डाल दिया है.

इस फाइल में यूपी पुलिस ने योगी से योगी के खिलाफ ही मुकदमा चलाने की परमिशन मांगी है. इस मामले में योगी सहित गोरखपुर एमएलए राधामोहन दास अग्रवाल और बीजेपी राज्य सभा एमपी शिव प्रताप शुक्ला आरोपी हैं.

मामला साल 2007 में गोरखपुर शहर में दो समुदायों के बीच हिंसा भड़काने का है, इस मामले में आईपीसी की धारा 153-A के तहत मुकदमा चलाने की अनुमति मांगी गई है. साल 2007 में 26 जनवरी को एक महिला से छेड़छाड़ हुई, जब पुलिस ने छेड़छाड़ करने वाले शोहदों का पीछा किया तो वे भागते हुए वहां से गुजर रहे मोहर्र्र्म के जुलुस में शामिल हो गए. इस बीच किसी शरारती तत्व ने फायरिंग कर दी और दो समुदायों के बीच हिंसा फ़ैल गई.
इस ममाले में परवेज परवाज नाम के एक स्थानीय पत्रकार ने एफआईआर दर्ज कराने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने उन्हें मना कर लौटा दिया. इसके बाद इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट की दखल से 26 सिम्बर 2008 को एफआईआर दर्ज हुई. इस मामले में परवेज का दावा है कि उसके पास सीएम आदित्यनाथ योगी के भड़काऊ भाषण का वीडियो फुटेज भी है. परवेज के मुताबिक योगी के भाषण के दौरान गोरखपुर एमएलए राधामोहन दास अग्रवाल, बीजेपी राज्यसभा एमपी शिव प्रताप शुक्ला, मेयर अन्जु चौधरी और पूर्व बीजेपी एमएलसी वाईडी सिंह भी मौजूद थे.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top