Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मुलायम ने दिया अखिलेश को झटका दाँव , शिवपाल बने सपा के प्रदेश अध्यक्ष

 Tahlka News |  2016-09-13 14:38:07.0

मुलायम ने दिया अखिलेश को झटका दावं , शिवपाल बने सपा के प्रदेश अध्यक्ष
तहलका न्यूज ब्यूरो

नयी दिल्ली. सोमवार से शुरू हुआ मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सफाई अभियान से चकित राजनीति के चतुर पहलवान और सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने आज नया दाँव चल दिया और बतौर प्रदेश अध्यक्ष काम कर रहे अखिलेश यादव को हटा कर शिवपाल यादव को यूपी समाजवादी पार्टी का अध्यक्ष बना दिया.

इसके पहले जब मंगलवार की सुबह दीपक सिंघल को मुख्य सचिव पद से अचानक हटाया तो उसके बाद दिल्ली स्थित मुलायम के आवास पर अमर सिंह पहुंचे थे. हालत पर लम्बी चर्चा होने के बाद अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाने का फैसला आ गया.

माना जा रहा है कि मुलायम का यह फैसला अखिलेश यादव के बीते दो दिनों में लिए गए कड़े फैसले के जवाब में आया है. दरअसल अखिलेश यादव ने अपने फैसलों ने एक साथ कई निशाने साधे थे. गायत्री प्रजापति पर जहाँ खुद मुलायम सिंह की सरपरस्ती होने की बात थी वहीँ दीपक सिंघल को शिवपाल सिंह यादव और अमर सिंह का ख़ास माना जाता था. चुनावी वेला में अखिलेश इस बात को स्पष्ट कर देना चाहते थे कि सरकार के वही मुखिया हैं और सरकार में वही होगा जो वे चाहते हैं.


अब इस फैसले के बाद मुलायम ने यह साफ़ करने की कोशिश की है कि वे ही पार्टी के मुख्या हैं और होगा वही जो वे चाहेंगे. इसके साथ ही समाजवादी पार्टी में चल रही अंदरूनी कलह अब खुल कर सामने आ गयी है.

अखिलेश के इस रवैये से बीते दिनों भी कई बार पार्टी के भीतर असहज स्थितियां उत्पन्न हुयी. मुख़्तार अंसारी की पार्टी के विलय को ले कर ये तल्खी इतनी बढ़ी कि अखिलेश ने मुलायम के करीबी मंत्री बलराम यादव को बर्खास्त कर दिया. इसके बाद मुलायम सिंह को समझौता कराना पड़ा और किसी तरह बलराम की मंत्रिमंडल में वापसी हुयी थी.
अखिलेश से अपनी नाराजगी को सांकेतिक रूप से दिखाते हुए शिवपाल ने सार्वजनिक मंचो से इस्तीफ़ा देने की बात कर दी तब भी सपा सुप्रीमो को दखल देना पड़ा और मुलायम ने कहा कि “शिवपाल ने इस्तीफ़ा दिया तो सरकार संकट में आ जाएगी” . तब बात वहीँ थम गयी थी , मगर अखिलेश यादव को नजदीक से जानने वाले इस बात का इंतजार कर रहे थे कि देर सवेर अखिलेश कुछ आक्रामक फैसले लेंगे और सोमवार से अखिलेश ने इन फैसलों को लेना भी शुरू कर दिया.

पार्टी में मतभेद और बर्चस्व की लडाई अब खुल कर सामने आ चुकी है. चुनावो में टिकटों के बंटवारे पर नियंत्रण भी इसकी एक बड़ी वजह है. कई बार की तात्कालिक समस्याये अब बड़ा रूप ले चुकी हैं.

समाजवादी पार्टी में जिस तरह घमासान मचा है अब हर क्षण किसी बड़े घटना की आशंका लगातार बनी हुयी है. अब एक तरफ अखिलेश यादव हैं और दूसरी तरफ मुलायम , शिवपाल के साथ अमर सिंह खड़े हैं जो बीते दिनों अपनी उपेक्षा होने के कारण न सिर्फ आहत रहे हैं बल्कि सार्वजनिक रूप से अपनी नाराजगी भी जाता चुके हैं.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top