Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

जानिए, किन-किन मौकों पर अखिलेश को मिली मुलायम की डांट भरी दुलार

 Anurag Tiwari |  2016-12-31 09:24:49.0

Akhilesh Yadav, bollywood, india, lucknow, mayawati, Mission 2017, Mulayam Singh Yadav, mumbai, New Delhi, News in Hindi, pm modi, pm narendra modi, Prime minister, Rahul Gandhi, social Media, UP Assembly Election, UP Government, UP Polls, Uttar Pradesh, Varanasi, Akhilesh Yadav, BJP, Chief Minister, lucknow, Mission 2017, Mulayam Singh Yadav, Narendra Modi, New Delhi, Pakistan, Samajwadi Party, UP Assembly Election, UP Government, UP Polls, Uttar Pradesh


तहलका न्यूज ब्यूरो

लखनऊ. समाजवादी पार्टी में ‘वर्चस्व’ के घमासान को देखते हए लोगों के जेहन में वे यादें ताजा होने लगीं, जब सपा सुप्रीमो न केवल विपक्ष की भूमिका में नजर आये बल्कि सार्वजनिक मंच से उन्होंने एक बाप की भूमिका में बेटे अखिलेश को डांटा भी.

समाजवादी महाभारत के अपने अंतिम चरण में पहुँचने से पहले साल दर साल बात कुछ यूँ बढ़ी. आइये नजर डालते हैं कैसे राजनीति के मंझे हुए खिलाड़ी मुलायम सिंह ने बेटे अखिलेश के लिए विपक्ष की भूमिका निभाई.

सैफई में दो साल पहले ट्रामा सेंटर की आधारशिला रखे जाने के कार्यक्रम में मंच पर ही मुलायम ने अखिलेश को लताड़ लगाई थी और अपने छोटे भाई शिवपाल सिंह के काम-काज की तारीफ की थी. पिछले सैफई महोत्सव में मुलायम ने अपने कार्यकाल में अमिताभ बच्चन के नाम पर बनवाए गए स्कूल की दुर्दशा को लेकर अखिलेश पर नाराजगी जता दी थी. उन्होंने दो टूक शब्दों में कहा था कि मैंने स्कूल बनवा दिया पर आप उसका ख्याल नहीं रख पा रहे है.

अगस्त 2012

यूपी में सपा सरकार बनने के महज चार महीने बाद ही मुलायम ने कह दिया था कि वे सरकार के काम से ख़ुश नहीं हैं.

23 मार्च 2013

मुलायम सिंह: "सुनिए, मुख्यमंत्री जी, मैं दिल्ली में आडवाणी जी से मिला तो उन्होंने कहा कि यूपी में क़ानून व्यवस्था की हालत खराब है, भ्रष्टाचार का बोलबाला है... आडवाणी जी बड़े नेता हैं और झूठ नहीं बोलते....

सख़्त हो जाइए, अपराधियों में डर पैदा होना चाहिए."

अक्तूबर 2013

मुलायम ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा था कि मंत्रियों, विधायकों और सांसदों के ग़लत कामों की सज़ा उन्हें न दें.

4 मार्च 2014

मुलायम ने इस बार चापलूसों पर हमला बोला और कहा, "आपकी सरकार को चापलूस चला रहे हैं. सुन लीजिए, मुख्यमंत्री जी, अपनी सरकार के बारे में. चापलूसी से काम हो रहा है. चापलूसी से ख़ुश होने वाले धोखा खाते हैं."

जून 2014

मुलायम सिंह ने सपा के महिला विंग की सभा में कहा, "मैंने अखिलेश से कहा था कि लैपटॉप मत बांटिए. देखिए क्या हुआ, हमारे दिए गए लैपटॉप पर मोदी के भाषण सुने गए!"

नवंबर 2014

मुलायम ने सरकार के धीमी चाल पर अखिलेश सरकार की बुराई करते हुए कहा कि उन्हें सिर्फ़ नींव के पत्थर लगाने की ही ख़बर मिलती है, किसी योजना के उद्घाटन की नहीं. अगस्त 2015 में भी मुलायम ने अखिलेश को डांटा कि वो उनकी बात पर ध्यान नहीं देते हैं.

5 अगस्त 2015

लखनऊ में एक कार्यक्रम में मुलायम ने मंच पर बैठे अखिलेश पर तंज किया, "ये तो बहुत बिज़ी सीएम हैं. राहत कार्यों के लिए धन की मांग पर एक नोट बनाकर मुझे दीजिए. लेकिन ये किसी की सुनते ही नहीं."

8 फरवरी 2016

मुलायम सिंह: "ये तो लोगों से मिलते ही नहीं. लखनऊ में ही छोटे-छोटे कार्यक्रमों में बिजी रहते हैं. जब भी मैं पूछता हूँ, कहां हो, तो कहते हैं कि लखनऊ में एक प्रोग्राम में हूँ."

15 अगस्त 2016

लखनऊ. सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री और अपने बेटे इंडिपेंडेंस डे के मौके पर पार्टी ऑफिस में सबके सामने अखिलेश यादव को एक बार फिर डांटा. उन्होंने एक महिला कार्यकर्ता की शिकायत कि सीएम अखिलेश मिलते नहीं हैं, सपा मुखिया ने अखिलेश को झिड़कते हुए कहा कि आप लोगों से क्यों नहीं मिलते हैं? इसके बाद वे महिला कार्यकर्ता से बोले कि पहले सीएम से बात करो, अगर वे नहीं मिलते हैं तो हमसे मिलो. इस दौरान नेताजी की बातें सुनकर सीएम केवल मुस्कुराकर रह गए.





Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top