Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

आत्मशक्ति से बड़ी कोई शक्ति नहीं : मोरारी बापू

 Sabahat Vijeta |  2016-12-01 11:10:13.0

morari-bapu-2


तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. संत मुरारी बापू ने सेवा अस्पताल में चल रही रामकथा में कहा कि आत्मशक्ति के आगे कोई शक्ति नहीं है. वही प्रधान है. पूरे विश्व का संचालन बुद्धपुरुषों की आत्मशक्ति से ही होता है. उन्होंने कहा कि जब व्यक्ति खुद में कुछ करने की ठान लेता है तो वह उसे पूरा करके रहता है.


संत मोरारी बापू की राजधानी में चल रही श्री रामकथा का रोमांच दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है. भक्तों को रामकथा का पूरा आनन्द लेने का मौका इसलिये मिल रहा है है क्योंकि बापू भक्तों की जिज्ञासाओं को भी शांत करते चल रहे हैं. एक भक्त के सवाल के जवाब में हाथों को तीर्थ की संज्ञा देते हुए उन्होंने कहा कि नन्हें-मुन्ने बच्चे तेरी मुट्ठी में क्या है, मुट्ठी में है तकदीर हमारी'.


morari-bapu-devya-giri


सीतापुर रोड स्थित सेवा अस्पताल प्रांगण में चल रही रामकथा में मोरारी बापू ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति के हाथ तीर्थ है. लेकिन यही हाथ जब समर्पण की जगह अपहरण करें तो अपवित्र हो जाते हैं. इसके बाद किस्सागोई


करते हुए एक प्रसंग का जिक्र करते हुए उन्होंने भक्तों को हंसने का भी मौका दिया. उन्होंने कहा कि कोई लड़की मंगलसूत्र पहनी हो तो सोचे की शादी हो चुकी है. जबकि कोई लड़का मुंह लटकाए हो तो समझ लो शादीशुदा है. बापू ने गुजरात के देहातों में गाए जाने वाले विवाह के गीतों को भी सुनाया. कथा में मनकामेश्वर मंदिर की महंत देव्यागिरि भी मौजूद रहीं. अरण्यकांड का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इस काण्ड को लीलाओं में विभाजित किया जा सकता है. श्रृंगार लीला, संहार लीला और सत्संग लीला हैं.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top