Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

संभलकर बदलें नोट! बैंक को हुआ शक तो आप पर हो सकती है बड़ी कार्रवाई

 Vikas Tiwari |  2016-11-11 08:47:50.0

cashतहलका न्यूज़ ब्यूरो

नई दिल्ली. मंगलवार को जब से 500 ओर 1000 के पुराने नोट को बंद करने की सूचना आई है. उसके बाद से ही कला धन इक्कठा रखने वाले उसे बदलने के लिए कई तरीके अपना रहे है. एक व्यक्ति अपने बैंक खातें में अगर ढाई लाख रुपये से ज्यादा नकद पैसे जमा करता है तो उसे उस धन का विवरण देना होगा. यदि धन के विवरण में कोई गड़बड़ी पाई जाती है तो इस तरह की करवाई आप के खिलाफ हो सकती है...

1. अगर बैंक में पैसा जमा करते राशि का सही विवरण नहीं दिया है तो जिस राशि के बारे में आप उपयुक्त जबाब नहीं देंगे तो आयकर अधिनियम की धारा 270A के तहत जुर्माना लगाया जा सकता है. जुर्माने की राशि टैक्स के अलावा 200 फीसदी हो सकती है। हालांकि, अधिकांश मामलों में आयकर विभाग अधिकतम जुर्माना यानी 200 फीसदी लगाने के पक्ष में है.


2. आयकर आंकलन के दौरान अगर यह पाया जाता है कि आपने खाता-बही सही तरीके से नहीं लिखा है और न ही सेक्शन 44AA के तहत 6 सालों की आमदनी और खर्च का सही-सही विवरण का रिकॉर्ड रखा है तब आयकर अधिनियम की धारा 271A के तहत जुर्माना अधिकारी आप पर 25 हजार रुपये का जुर्माना लगा सकते हैं.

3. आयकर अधिकारी आंकलन के दौरान यह पाते हैं कि आपने टैक्स ऑडिट नहीं कराया है और उसकी रिपोर्ट 3CD फॉर्म नहीं भरा है तो आयकर अधिनियम की धारा 271बी के तहत कुल बिक्री या कुल टर्न ओवर या कुल रसीदी मूल्य का 0.5 फीसदी जुर्माना लगाया जा सकता है. हालांकि इस जुर्माने की अधिकतम राशि 50 हजार से ज्यादा नहीं हो सकती है.

4. आयकर अधिकारी आंकलन के दौरान अगर यह पाते हैं कि किसी नियोक्ता ने आंशिक या पूर्ण टीडीएस नहीं काटा है तो आयकर अधिनियम की धारा 271 C के तहत जुर्माना उतना ही जुर्माना लगाया जाएगा जितना कि टैक्स बकाया है.

5. अगर आपने किसी वित्तीय वर्ष में किसी व्यक्ति से 20 हजार से ज्यादा का कैश लोन लिया है या खाते में जमा कराया है तो आयकर कानून नकद लोन लेने पर 271 D के तहत उतनी ही राशि का जुर्माना लगाया जा सकता है.

6.  अगर आपने किसी वित्तीय वर्ष में 20 हजार से ज्यादा की ऋण राशि नकद में लौटाई हो या उसका भुगतान किसी और को किया है तो  271 E के तहत उतनी ही राशि पर आयकर विभाग जुर्माना वसूल सकता है.

7. अगर आपने किसी वित्तीय वर्ष में तय समय सीमा के तहत अपनी आयकर विवरणी (ITR) आयकर विभाग को नहीं जमा कराया है तो आप पर आयकर की धारा 271F के तहत 5000 रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है।

8. अगर आयकर अधिकारी यह पाते हैं कि आपने तय समय सीमा बीत जाने के एक साल बाद भी टीडीएस रिटर्न फाइल नहीं किया है या टीडीएस रिटर्न में कुछ गलत जानकारी दी है तो आप पर धारा 271H के तहत कम से कम 10 हजार रुपये और अधिकतम 1 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है

9. अगर यह पाया जाता है कि आप ने पैन कार्ड नहीं बनवाया है या उसकी सूचना बैंक को नहीं दी है या गलत पैन कार्ड की सूचना बैंक को दी है तो आप पर आयकर कानून की धारा 272 B के तहत जुर्माना:के तहत 10 हजार रुपये की जुर्माना लगाया जा सकता है.

10. आयकर विभाग के अधिकारी अगर यह पाते हैं कि आपने टैक्स डिडक्शन अकाउंट या टैक्स कलेक्शन अकाउंट नंबर नहीं लिया है या कहीं आपने गलत टैन नंबर दिया है तो आप पर आयकर कानून की धारा 272BB और 273BBB के तहत 10 हजार रुपये की जुर्माना लगाया जा सकता है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top