Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

PM Modi ने रखी #MannKiBaat, पढ़िए क्या कहा पर्यावरण और सूखे पर

 Anurag Tiwari |  2016-05-22 05:57:24.0

modi-man

तहलका न्यूज़ ब्यूरो

नई दिल्ली. मन की बात के 20वें प्रसारण में पीएम मोदी ने पर्यावरण संरक्षण को लेकर बात शुरु की। उन्होंने कहा जंगल कम होते गए, पेड़ कटते गए,  मानवजाति ने ही स्वयं ही प्रकृति का विनाश कर विनाश का मार्ग प्रशस्त कर दिया। उन्होंने कहा हमें पर्यावरण समस्याओं से निपटने के लिए स्थायी समाधान ढूंढने होंगे। 5 जून विश्व पर्यावरण दिवस है और इस बार यूएन ने जीरो टॉलरेंस फॉर इललीगल वाइल्डलाइफ ट्रेड विषय रखा है।

पीएम मोदी ने गर्मी और सूखे पर बात की। उन्होंने उत्तराखंड के जंगलों में लगी भीषण आग और कई राज्य में सूखे की स्थिति पर चर्चा की। मोदी ने कहा कि मैंने सूखे पर प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अलग-अलग बात की।


-11 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ सूखे की स्थिति पर विस्तार से बातचीत करने का अवसर मिला, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, ओडिशा।

- गुजरात और आंध्र प्रदेश ने सूखे से निपटने के लिए तकनीक का बेहतर इस्तेमाल किया है, इसमें जन भागीदारी की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

- मैंने हर राज्य के साथ अलग मीटिंग की। एक-एक राज्य के सीएम के साथ क़रीब-क़रीब दो-दो, ढाई-ढाई घंटे बिताए। राज्यों को क्या कहना है। आम तौर पर सरकार में, भारत सरकार से कितने पैसे गए और कितनों का खर्च हुआ, इससे ज्यादा बारीकी से बात नहीं होती है।

- सूखे से निपटने के लिए कई प्रदेशों ने बहुत ही अच्छा प्रयास किया हैं, मैंने तो नीति आयोग को कहा है कि जो अच्छे प्रयास हैं, उनको सभी राज्यों में कैसे लागू किया जाए इस पर विचार करें।

-पानी परमात्मा का प्रसाद है। एक बूंद भी बर्बाद हो, तो हमें पीड़ा होनी चाहिए। खुशी की बात कई राज्यों में हमारे गन्ने के किसान भी माइक्रो इर्रिगेशन, ड्रिप इर्रिगेशन, स्प्रिंकलर का उपयोग कर रहे हैं।





  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top