Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

US Congress में PM मोदी आतंकवाद पर बरसे

 Abhishek Tripathi |  2016-06-08 14:52:07.0

Capitol_Hillवाशिंगटन. पीएम नरेंद्र मोदी अपने अमेरिका टूर के तीसरे दिन यूएस कांग्रेस को संबोधित कर रहे हैं। पीएम मोदी से पहले मनमोहन सिंह यूएस कांग्रेस को संबोधित कर चुके हैं। यूएस कांग्रेस को संबोधित करने वाले भारत के पांचवें प्रधानमंत्री हैं। साल 2005 के बाद वे पहले भारतीय प्रधानमंत्री होंगे, जो अमरीकी कांग्रेस को संबोधित करेंगे।


इससे पहले प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (19 जुलाई, 2005), अटल बिहारी वाजपेयी (14 सितंबर, 2000), पीवी नरसिंह राव (18 मई, 1994) और राजीव गांधी (13 जुलाई, 1985) अमरीकी कांग्रेस की संयुक्त बैठक को संबोधित कर चुके हैं।



गौरतलब है कि अपनी अमेरिकी यात्रा के दौरान उन्होंने राष्ट्रपति बराक ओबामा से मंगलवार को मुलाकात की। इस दौरान दोनों देशों के बीच आर्थिक संबंधों को ऊँचाई पर ले जाने, तकनीकी सहयोग बढ़ाने, स्वच्छ ऊर्जा के लिये वित्तीय आवंटन बढ़ाने, साइबर सुरक्षा और इंटरनेट नेटवर्क में भारत की भागीदारी बराबर करने पर बातचीत हुई।


ओबामा ने एनएसजी और मिसाइल प्रौद्योगकी नियंत्रण व्यवस्था (एमटीसीआर) की सदस्यता के लिए भारत का समर्थन किया, जिस पर मोदी ने उनका आभार जताया।


LIVE PM Modi:


-कांग्रेस के संयुक्त  सत्र को संबोधित कर मैं खुद को सम्मानित महसूस कर रहा हूं।

-ये सदन लोकतंत्र का मंदिर है जिसने दूसरे देशों में लोकतंत्र को मजबूत किया है।

-मुझे यहां संबोधन का मौका देकर आपने दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र और उसकी सवा सौ करोड़ जनता का सम्मान किया है।

-भारत और अमेेरिका के रिश्तों ने इतिहास की हिचक दूर की है।

-भारत मानवता की सेवा में इस भूमि की महिलाओं और पुरुषों के महान बलिदान की सराहना करता है।

-आज भारत एक साथ रहता है, एक साथ बढ़ता है और एक साथ उत्सव मनाता है।

-हमारा संविधान बिना किसी भेदभाव के सबको समान अधिकार देता है।

-भारत में सवा सौ करोड़ लोग बिना किसी भेदभाव के रहते हैं।

-महात्मा गांधी के अहिंसा के संदेश ने मार्टिन लूथर किंग को प्रभावित किया।

-कोई आश्चर्य नहीं कि अटल बिहारी वाजपेयी ने भारत और अमेरिका को स्वाभाविक साझीदार कहा था।

-मुंबई हमलों के वक्त यूस कांग्रेस ने जिस तरह भारत के साथ एकता दिखाई थी उसे भारत कभी नहीं भूल पाएगा।

-आपने बाधाओं को समझौते के पुल में बदलने में हमारी मदद की।

-हमारा सहयोग हमारे शहरों और नागरिकों को आतंकियों से बचाता है और हमारे क्रिटिकल इंफ्रास्ट्रक्चर की साइबर खतरों से रक्षा करता है।

-पिछले 10 साल में रक्षा खरीद तकरीबन 00 से 10 अरब डॉलर पहुंच गया है।

-आज अमेरिका में सीईओ, डॉक्टर, साइंटिस्ट यहां तक कि स्पैलिंग बी चैंपियन भी भारतीय मूल का है।

-अमेरिका की ताकत हमारे लिए गर्व की बात है,  अमेरिका के हित में है मजबूत और खुशहाल भारत।

-भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत है और ग्रोथ रेट 7.6 फीसदी है। ये हमारी साझा संपन्नता के लिए नए अवसर पैदा कर रही है।

-एशिया से अफ्रीका तक शांति चाहता है भारत।

-भारत की पश्चिमी सीमा से लेकर अफ्रीका तक आतंकवाद सबसे बड़ा खतरा बना हुआ है। इसके नाम अलग हो सकते हैं लश्कर, तालिबान या आईएसआईएस।

-अच्छे और बुरे आतंकवाद में फर्क नहीं किया जा सकता और आतंकवाद को धर्म से नहीं जोड़ा जा सकता।

-हम संयुक्त राष्ट्र के शांति अभियानों के सबसे ज्यादा योगदान देने वालों में शामिल हैं।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top