Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

सपा–कांग्रेस गठबंधन पर बढा संशय, अजीत का भी गोलमोल जवाब

 Tahlka News |  2016-12-24 09:18:10.0

yes-or-no

तहलका न्यूज ब्यूरो

लखनऊ. शुक्रवार की रात को दिल्ली में हुयी कांग्रेस नेताओं और जनता परिवार के नेताओं के एक साथ जुटाने के बाद तेज हुयी यूपी गठबंधन की चर्चाओं पर अब भी विराम नहीं लग पा रहा. देसर रात सोशल मीडिया पर भी इस बात की खबरे तेज हुयी थी कि सपा, कांग्रेस और राष्ट्रीय लोकदल की सीन्तो पर सहमती बन चुकी है. कई जगहों पर तो सीटों की संख्या भी लखी गयी मगर शनिवार की दोपहर तक भी दोनों पक्षों से इस मामले में कोई साफ़ संकेत नहीं मिले हैं.

शनिवार को जब समाजवादी पार्टी के महासचिव अमर सिंह की मुलाकात प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव से हुयी तब भी यह कयास लगाए जाने लगे कि वे इस गठबंधन के बारे में कोई अंतिम फैसला करने वाले हैं मगर अमर सिंह ने इसे महज एक शिष्टाचार मुल्ककत बता दिया . हालाकि वे दोनों सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह से मिलने भी चले गए.

अमर सिंह ने शिवपाल सिंह यादव से मुलाकात के बाद कहा – मैं पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष से मिलने आया था , मैं पार्टी का नेता हूँ , महासचिव हूँ , बहुत तूल देने की ज़रूरत नहीं , 2017 विधान सभा चुनाव को देखते हुए हमारी बात हुई है , मैं एक छोटा सा कार्यकर्ता हूँ. गठबंधन को लेकर फैसला नेता जी लेंगे.

हालाकि सूत्र बताते हैं कि इस बैठक में गठबंधन को लेकर भी बात हुयी और अमर सिंह ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल से हुयी अपनी बातचीत का ब्योरा सामने रखा.

हालाकि इस बात से संशय और बढ़ गया जब राष्ट्रीय लोकदल के मुखिया अजीत सिंह ने किसी भी गठबंधन की बात से साफ़ इंकार कर दिया. कुछ पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में अजीत सिंह ने साफ़ किया कि गठबंधन को लेकर 9 नवम्बर के बाद से मुलायम सिंह या समाजवादी पार्टी के किसी नेता से कोई बात नहीं हुई है. काफी पहले समाजवादी पार्टी की तरफ से शिवपाल जी ने बात कि थी मगर उसके बाद कोई बात नहीं हुयी है.

सूत्रों का कहना है कि यदि समाजवादी पार्टी से कोई बात नहीं बनी तो कांग्रेस , अजीत सिंह और जनता दल यूनाईटेड के साथ एक फ्रंट बनेगा और ममता बनर्जी के भी इसमें शामिल होने की संभावना है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top