Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

दो घंटे में हुए 18 करोड़ खर्च, गरीबों को मिल जाता घर और शौचालय

 Anurag Tiwari |  2016-10-26 04:08:51.0

varanasi visit, prime minister narendra modi, urja ganga, project, DLW

तहलका न्यूज ब्यूरो

वाराणसी. सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के दौरे पर आए थे. उनके लगभग 2 घन्टे के प्रोग्राम के लिए कुल 18 करोड़ रुपयों का खर्च आया. दौरे की तैयारियों में लगे एक उच्च पदस्थ सूत्र ने बताया कि इन तैयारियों के लिए अलग-अलग विभागों ने मिलकर पैसा दिया था, जिसमें लायन शेयर गैस अथॉरिटी इंडिया लिमिटेड ने दिया था. पीएम ने इस दौरान करीब करोड़ रुपयों की सौगात बनारस को दी. उम्मीद जताई जा रही है कि इन परियोजनाओं से आने वाले समय में बनारस सहित पूर्वांचल के कई जिलों की तस्वीर बदलेगी.


गरीबों को मिल जाती ये राहत

अगर गरीबों के लिए बनने वाले सरकारी योजना के घरों की कीमत से हिसाब लगाएं तो बनारस के 360  गरीबों को घर मिल सकता था. इसी पैसे को अगर पीएम के स्वच्छता मिशन में लगाया जाता तो 18 हजार टॉयलेट्स बनाये जा सकते थे. सरकार एक टॉयलेट के निर्माण के लिए 10 हजार रुपए सैंक्शन करती है. इसी पैसे को अगर बिजली सप्लाई में लगाया जाता तो लगभग 500 गरीबों की कुटिया रौशन हो सकती थी. इसी पैसे से प्राइमरी स्कूल में पढ़ने वाले लगभग दो करोड़ बच्चों 6 हफ्ते के लिए फलों का वितरण किया जा सकता था. इसी तरह अगर यह पैसा बच्चों में दूध वितरण के लिए खर्च किया जाता तो 60 लाख बच्चों में 2 दिनों के लिए मिड डे मील बांटा जा सकता था.

ये थी तैयारी और खर्च

पीएम के प्रोग्राम के लिए जो तैयारियां हुईं थीं उनमे बड़ा खर्च प्रोग्राम के लिए बने स्टेज और पांडाल पर आया. पीएम के पिछले कुछ दौरों के बारिश के चलते रदद् होने के कारण अब उनके सभी प्रोग्राम में जर्मन हेंगर का पांडाल बनाया जाता है. साथ ही उनके और अन्य गेस्ट के लिए स्विस कॉटेज बनाए जाते हैं। इस बार सीएम अखिलेश, गवर्नर राम नाईक सहित केंद्रीय मंत्रियों के लिए पांच स्विस कॉटेज बनाए गए. जर्मन हेंगर और पांच स्विस कॉटेज पर ही अकेले नौ से दस करोड़ रूपए का खर्च आया. इसके अलावा स्टेज पर 100 टन का एसी लगा था जिसे विशेष तौर पर दिल्ली से मंगाया गया था. प्रोग्राम वेन्यू पर और उसके आसपास 20 एलईडी स्क्रीन्स लगाई गईं थीं. एक एलईडी स्क्रीन का खर्च 20 हजार रूपए पर डे के हिसाब से आता है. यह सभी प्रोग्राम की तैयारियों के लिए डीएलडब्लू में एक दिन पहले ही लगा दी गईं थीं. इसके अलावा 10 एलईडी वैन्स को ऊर्जा गंगा प्रोजेक्ट की पब्लिसिटी के लिए लगाया गया जिनका रोज का खर्च लगभग 5 लाख रूपये आता है. इसके अलावा पीएम के वाराणसी आने और यहां से जाने तक में किए गए सिक्योरिटी अरेंजमेंट में ही आने वाला खर्च लगभग 4 करोड़ रूपयों का बैठा. तैयारियों में लगे लोगों के खाने पीने का खर्च ही लगभग एक करोड़ रूपए आया. इन सभी खर्चों के अलावा खुद बीजेपी ने पीएम के दौरे को सफल बनाने के लिए पार्टी फंड से लगभग एक करोड़ रूपए खर्च किए.

कहां हुआ कितना खर्च

  • जर्मन हेंगर और स्विस कॉटेज - 10 करोड़ रूपए लगभग

  • सिक्योरिटी- 4 कऱोड़ रूपए

  • बीजेपी द्वारा कार्यकर्ताओं को लाने ले जाने और प्रचार -  1 करोड़ रूपए लगभग

  • स्टेज डेकोरेशन, एलईडी स्क्रीन्स, एलईडी वैन्स, जेनसेट, स्टेज बैकड्रॉप, साउंड, इलेक्ट्रिसिटी, खानापीना, सर्विलांस कैमरा, ट्रांसपोर्टेशन -  4 करोड़ रूपए लगभग 




Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top