Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पार्टी से निकाले जा चुके रामगोपाल ने राज्यसभा में रखा सपा का पक्ष,क्या ये है वापसी का संकेत !

 Tahlka News |  2016-11-16 09:41:15.0

ramgopal-yad

तहलका न्यूज़ ब्यूरो

नई दिल्ली. भले ही समाजवादी पार्टी से राज्य सभा सांसद प्रो रामगोपाल यादव को पार्टी से 6 साल के लिए निष्कासित कर दिगया है मगर बुधवार को केंद्र सरकार के नोट के फैसले के खिलाफ राज्यसभा में उन्होंने बतौर नेता समाजवादी पार्टी का पक्ष रखा. इसके बाद रामगोपाल यादव के पार्टी में वापसी की संभावनाओं पर भी चर्चा शुरू हो गयी है.

अभी कुछ दिनों पहले ही इटावा में एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए रामगोपाल यादव भावुक हो गए थे और रोते हुए अपने आप को निर्दोष बताते हुए पार्टी का समर्पित कार्यकर्ता बताया था. बुधवार को राज्य सभा में उनकी भूमिका देखते हुए कयास लगाया जा रहा है कि उनके आंसू काम आ गए हैं.


हालाँकि इस बाबत जब सपा के प्रदेश अध्यक्ष रामगोपाल यादव से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वे इस पर कुछ नहीं बोलेंगे. जो भी फैलसा लेना होगा वह नेताजी (मुलायम सिंह यादव) लेंगे. शिवपाल के अलावा भी पार्टी का कोई अन्य नेता इस मुद्दे पर बातचीत को तैयार नहीं है.

इससे पहले रामगोपाल यादव ने राज्य सभा में बोलते हुए कहा कि सरकार के इस फैसले से आम लोगों की जान सांसत में पड़ गई है. उन्होंने कहा जो आज लाइन में लगे हैं उनमें कोई भी अमीर नहीं है. “इस देश की 90 फ़ीसदी पूंजी 10-12 लोगों के पास है. वह लाइन में नहीं लगा है.

जो लाइन में लगा है वह किसी की मां है, गरीब किसान और मजदूर है. सरकार सदन को बताए की उसने कितना कालाधन इकठ्ठा किया और कितनों के खिलाफ कार्रवाई हुई.”रामगोपाल ने कहा, “आज किसान बोआई नहीं कर पा रहा है. खाद नहीं मिल रहे.

आलू की फसल बर्बाद हो गई. लोग फलों को नहीं खरीद पा रहे हैं. दुकानदार सड़े फलों को फेंक रहा है.”रामगोपाल ने यह भी कहा कि बीजेपी के एक नेता ने पहले ही दो हजार के नोट को ट्वीट कर दिया था.

ऐसे में कैसे मान लिया जाए की किसी को नहीं पता था. सदन को इस मामले की जांच करवानी चाहिए.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top