Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

17 साल पहले एक 'चुनाव निशान' जब्त कर चुका है चुनाव आयोग, टेंशन में मुलायम-अखिलेश

 Abhishek Tripathi |  2017-01-02 16:41:56.0

Uttar Pradesh Chief Minister Akhilesh Yadav along with his father and Samajwadi Party Supremo Mulayam Singh Yadav and state Urban Development Minister Azam Khan at party organised

तहलका न्यूज़ ब्यूरो
नयी दिल्ली. अगर समाजवादी पार्टी का चुनाव चिन्ह जब्त होता है तो यह राजनीति में पहली बार नहीं होगा. चुनाव चिन्ह जब्त करने का सबसे बड़ा उदाहरण हैं 17 साल पहले 1999 के लोकसभा चुनाव का है. उस वक्त जनता दल में टूट हुई थी. सूत्रों की मानें तो, इस बात को लेकर मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव काफी परेशान हैं. जानकारों की मानें तो, अगर सपा का चुनाव निशान साइकिल आयोग जब्त करता है तो दोनों को यूपी चुनाव में काफी नुकसान हो सकता है.


दरअसल जनता दल का चुनाव चिन्ह चक्र हुआ करता था. शरद यादव, पासवान, देवगौड़ा एक साथ जनता दल में थे. वाजपेयी को समर्थन के सवाल पर जनता दल में फूट पड़ी. देवगौड़ा वाजपेयी को समर्थन के खिलाफ थे ते शरद यादव बीजेपी के समर्थन में थे. दोनों खेमे ने खुद को असली जनता दल बताया और चक्र पर दावा किया.


मामला चुनाव आयोग पहुंचा और चक्र के साथ साथ नाम भी जब्त हो गया. शरद यादव के जेडीयू का तीर मिला तो देवगौड़ा के जीडीएस को महिला के सिर पर धान की बाली का चिन्ह मिला.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top