Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

संघ की हिदायत : दलितों और गरीबों का ख़ास ख्याल रखे भाजपा

 Sabahat Vijeta |  2016-08-26 18:04:40.0

rss


भोपाल| मध्यप्रदेश की राजधानी में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के पदाधिकारियों और भारतीय जनता पार्टी के नेताओं तथा अनुषांगिक संगठन की दो दिन चली बैठक में 'पार्टी की छवि' की चिंता छाई रही, यही कारण है कि संघ ने सामाजिक समरसता दर्शाने वाला अभियान चलाने की हिदायत दी है। भोपाल के शारदा विहार शैक्षणिक संस्थान में गुरुवार व शुक्रवार को दो दिवसीय समन्वय बैठक हुई। इस बैठक में संघ ने भाजपा व अनुषांगिक संगठनों को हिदायत दी है कि वे ऐसे कार्यक्रम आयोजित करें, जिससे उनकी सामाजिक समरसता वाली पार्टी व संगठन की छवि बनी रहे।


भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा कि अंत्योदय व सामाजिक समरसता पर जोर दिया जाएगा। पार्टी, संघ व सामाजिक संगठन मिलकर पं दीनदयाल उपाध्याय, डॉ. अंबेडकर, गोविंद सिंह व नानाजी देशमुख की जयंती मनाई जाएगी। साथ ही दो अक्टूबर को गांधी जयंती व लाल बहादुर शास्त्री का जन्मदिन मनाया जाएगा।


सूत्रों का कहना है कि संघ ने भाजपा से गरीबों और दलितों के लिए अभियान चलाने को कहा है। ये ऐसे दो बड़े वर्ग हैं, जो जनाधार बढ़ाने में सहायक हैं। इस अभियान में अनुषांगिक संगठन भी भाजपा का साथ देंगे। दो दिनों तक चली समन्वय बैठक में संघ के सह सरकार्यवाह भैया जी जोशी खास तौर पर मौजूद रहे। इस बैठक के दौरान पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी गुरुवार की शाम को राजधानी पहुंचे थे और उन्होंने रात में ही संघ व संगठन के पदाधिकारियों के साथ बैठक की थी।


बैठक में शाह और संघ-भाजपा नेताओं के बीच वर्तमान स्थितियों पर चर्चा हुई, साथ ही सत्ता और संगठन में बेहतर तालमेल पर भी जोर दिया गया। शाह शुक्रवार को दिल्ली लौट गए।


इस बैठक का शुक्रवार को दूसरा व अंतिम दिन था। संघ ने राज्य सरकार के मंत्रियों से चर्चा की। बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी मौजूद रहे। दो दिन की इस बैठक में संघ के मध्य भारत, महाकौशल, मालवा क्षेत्र के प्रतिनिधि, अनुषांगिक संगठनों के प्रतिनिधि, राज्य सरकार के मंत्री, विधायक, सांसद व संगठन के पदाधिकारी उपस्थित रहे। बैठक में हिस्सा लेने के लिए राज्य सरकार के मंत्री शुक्रवार की सुबह ही शारदा विहार पहुंच गए थे।


सूत्रों के अनुसार, संघ ने सभी मंत्रियों को अपना वाहन, सुरक्षाकर्मी व मोबाइल फोन शारदा विहार के प्रवेशद्वार के बाहर ही छोड़कर आने के निर्देश दिए थे, मगर अधिकांश मंत्रियों ने इसे खास तवज्जो नहीं दिया। अधिकांश मंत्रियों ने अपने वाहनों को मुख्यद्वार पर नहीं छोड़ा, वे अंदर तक अपने वाहन से ही गए।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top