Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

सपा की एक और फजीहत, वेबसाइट पर अपलोड हुआ 'पार्टी विरोधी' प्रस्ताव

 Abhishek Tripathi |  2016-10-19 03:49:14.0

akhilesh_yadavतहलका न्यूज ब्यूरो
लखनऊ. समाजवादी पार्टी (सपा) में छिड़ा गृहयुद्ध थमने का नाम नहीं ले रहा है। 5 नवंबर को सपा सिल्वर जुबली मनाने की तैयारी में लगा है। वहीं, पार्टी के यूथ विंग के नेताओं ने सीएम अखिलेश यादव के समर्थन में आते हुए सिल्वर जुबली कार्यक्रम का बहिष्कार करने का फैसला किया है। इसके लिए यूथ विंग के नेताओं ने एक प्रेस विज्ञप्ति भी जारी किया। मामले में सपा की फजीहत तब हुई जब, यह पार्टी विरोधी प्रस्ताव पार्टी के आधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड हो गई। वेबसाइट पर प्रस्ताव के अपलोड होने के बाद सोशल मीडिया पर भी ये खबर वायरल हो गई।


गौरतलब है कि सीएम अखिलेश यादव के समर्थन में रहने वाले यूथ विंग के कुछ सीनियर नेताओं को उनके चाचा शिवपाल यादव ने पार्टी से निकाल दिया था। उसके बाद से अखिलेश के वे ‘युवा’ समर्थक शिवपाल और पार्टी के बाकी कई बड़े नेताओं से नाराज हैं। इसके लिए पार्टी से निकाले गए सभी नेताओं और उनके हजारों समर्थकों ने फैसला किया था कि वह सपा की सिल्वर जुबली मनाने के लिए 5 नवंबर को होने वाले प्रोग्राम का बायकाट करेंगे।


काफी दिनों से चल रही है चाचा-भतीजे की लड़ाई
बताते चलें कि अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल यादव में काफी दिनों से खटपट चल रही है। मीडिया के सामने अखिलेश कई बार कह चुके हैं कि चाचा से उनकी लड़ाई पारिवारिक ना होकर राजनीतिक है। दरअसल, यह लड़ाई बाहुबली मुख्तार अंसारी की पार्टी कौमी एकता दल के विलय को लेकर शुरू हुई थी। शिवपाल ने अखिलेश से पूछे बिना कौमी एकता दल का विलय समाजवादी पार्टी में कर लिया था। इसपर अखिलेश गुस्सा हो गए थे और उन्होंने विलय को रद्द कर दिया था। काफी खींचतान के बाद अब कौमी एकता दल फिर से समाजवादी पार्टी का हिस्सा बन गई है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top