Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

यूपी चुनाव ने लगा रखी है नेताओं के बोल पर लगाम, नहीं तो कर देते सरकार को बदनाम

 Abhishek Tripathi |  2016-08-01 09:52:34.0

bulandshahr_gang_rapeअभिषेक त्रिपाठी
लखनऊ. आप सभी को एक तारीख '27 मई 2014' तो जरूर याद होगी। ये वो दिन है जब यूपी के बदायूं जिले में दो चचेरी बहनों के साथ गैंगरेप कर उनके शव को आम के पेड़ से लटका दिया गया था। ताजुब तो तब हुआ था जब दिल दहला देने वाली इस घटना के बाद समाजवादी पार्टी (सपा) के बड़े नेताओं ने काफी विवादित बयान दिए थे। सपा के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव ने कहा था 'कई जगह लड़के-लड़की का संबंध जगजाहिर हो जाता है तो इसे बलात्‍कार का नाम दे दिया जाता है। बहुत सारी जगहों पर लड़का शादी करने को तैयार होता है, लेकिन ऑनर किलिंग हो जाती है।' सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने कहा था 'एक महिला का गैंगरेप चार पुरूष नहीं कर सकते। उन्होंने कहा था कि एक व्यक्ति भले ही एक महिला का रेप कर सकता है, लेकिन चार लोग नहीं। उन्होंने कहा था कि एक महिला का रेप एक व्यक्ति करता है और चार लोगों पर केस दर्ज होता है। ये गलत बात है।'


अब यूपी विधानसभा चुनाव नजदीक है। इसी बीच बुलंदशहर गैंगरेप की वारदात ने एक बार फिर यूपी की कानून-व्यवस्था को कठघरे में खड़ा कर दिया है। लेकिन इस बार सपा नेता वोट बैंक की खातिर थोड़ा सतर्क हैं। बुलंदशहर गैंगरेप को लेकर सपा नेता बयान दे रहे हैं कि ये घटना दुखद है। सीएम अखिलेश भी एक्शन के मूड हैं। ताबड़तोड़ अपराधियों पर शिकंजा कसने के लिए पुलिस टीम बना दी गई है, साथ ही तीन अपराधियों की शिनाख्त भी हो चुकी है। यूपी डीजीपी जावीद अहमद ने स्वयं जाकर घटनास्थल का निरीक्षण भी किया।


पति के सामने पत्नी और बेटी से गैंगरेप
बता दें कि, दो साल बाद एक बार फिर यूपी के एक अन्य जिले बुलंदशहर में एक मां और उसकी 12 साल की बेटी के साथ गैंगरेप किया गया है। इस घटना को घर के पुरुष सदस्यों को बंधक बनाकर उनके सामने अंजाम दिया गया है। इस गैंगरेप में पुलिस ने बावरिया गिरोह पर शक जताया है। पुलिस ने इस गिरोह के एक शख्स सहित तीन आरोपियों को गिरफ्तार भी किया है। कई लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ हो रही है। इस मामले में फरीदाबाद के अटेरना गांव के रहने वाले बबलू नाम के आरोपी को पुलिस ने पकड़ा है। बबलू करीब आठ साल पहले गैंग में शामिल हुआ था। उसके पिता का कहना है कि उसकी हरकतों की वजह से ही उसे संपत्ति से बेदखल कर दिया था।


घटना के बाद नेताओं के बयान
अब जनता को डीजीपी के बयान पर भरोसा नहीं रहा। अखिलेश सरकार फेल हो गई है। ये तो निर्भया से भी बुरा हुआ। रौंगटे खड़े करने वाली घटना है। यह घटना दर्शाती है कि किस प्रकार से हमारी बहन-बेटियों की अस्मिता पर गुंडों द्वारा अत्याचार किया जाता है और सरकार सोती रह जाती है। अब बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की जगह, बेटी उठाओ और अपमानित करो यही आये दिन की घटना हो गई है: कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला


अब लोग सफ़र में भी सुरक्षित नहीं हैं। जब महिलाएं परिवार के साथ यात्रा करते हुए भी ऐसे अपराध का शिकार होंगी तो ऐसा लगता है कि वहां गुंडाराज है:

कांग्रेस नेता शोभा ओझा


यह बहुत ही वीभत्स घटना है। इसकी जितनी भी निंदा की जाए कम है। इस घटना ने हमारी आत्मा को हिला कर रख दिया है। यह बिगड़ी हुई कानून-व्यवस्था की ओर इशारा करता है। अब ऐसी परिस्थितियां आ गई हैं कि सारी महिलाएं खुद खड़ी होकर कहेंगी कि हम उत्तर प्रदेश छोड़ कर जाने को तैयार हैं। अब उत्तर प्रदेश में महिलाएं तो परिवार के साथ भी सुरक्षित नहीं हैं: केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल


इस घटना से पता चलता है कि अखिलेश के राज में कोई कानून व्यवस्था नहीं है। कोई भी सुरक्षित नहीं है। राज्य में अब राष्ट्रपति शासन लगा देना चाहिए: बसपा प्रवक्ता सुधींद्र भदौरिया


यह घटना दुखद है। यह आकस्मिक घटना है। इसमें हम दुःख ही प्रकट कर सकते हैं। पुलिस एक्शन ले रही है। जल्द ही लोग पकड़े जाएंगे: सपा नेता नरेश अग्रवाल

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top