Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पहली बार मुलायम को समाजवादी युवाओं ने दी चुनौती

 Girish Tiwari |  2016-09-17 07:40:12.0

aky


तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ:
 यूपी की सियासत में तनातनी और मेल-मिलाप की कोशि‍शों के बीच शनिवार को सीएम अखिलेश यादव को फिर से प्रदेश अध्‍यक्ष बनाए जाने की मांग को लेकर समर्थकों ने जमकर बवाल किया। इस दौरान सीएम अखिलेश और कैबिनेट मंत्री शिवपाल के समर्थक मारपीट पर आमादा लगेे। इसको देखते हुए पार्टी कार्यालय और सीएम आवास के बाहर भारी संख्या में पीएसी और पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। इस प्रदर्शन को देखकर कहा जा सकता है कि मुलायम सिंह यादव अपने राजनैतिक जीवन के सबसे कठिन दौर से गुजर रहे हैं।


समाजवादी पार्टी के चारों यूथ विंग ने सीएम अखिलेश यादव के समर्थन में पार्टी कार्यालय पर नारेबाजी और प्रदर्शन किया। अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर अड़े समाजवादी पार्टी के सभी चारों यूथ विंग के फ्रंटल अध्यक्षों ने साफ़ कर दिया कि उन्हें शिवपाल और उनके समर्थकों की मातहती मंजूर नहीं और वे उनके साथ काम नहीं कर सकते।


ay


पहली बार मुलायम के फैसलों के खिलाफ प्रदर्शन
जानकारों की माने तो ये प्रदर्शन समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मुलायम के फैसलों के खिलाफ है। पहली बार ऐसा हो रहा है कि पार्टी में उनके फैसले को चुनौती मिल रही है। यह इशारा करती है कि पार्टी में अभी भी कुछ ठीक नहीं है और अलग-अलग धडा उनके फैसले को चुनौती देकर बगावत के सुर तेेज कर रहा है।

बता दें कि सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह की दखलंदाजी और शिवपाल के सभी पुराने विभाग मिलने के बाद ऐसा लग रहा था कि समाजवादी पार्टी में पिछले छह दिनों से चल रहे सियासी घमासान का खत्म  हो गया, लेकिन श्‍‍ानिवार को सीएम केे समर्थक पार्टी कार्यालय और मुख्‍यमंत्री आवास घेर कर अखिलेश यादव को फिर से अध्‍यक्ष बनाने की मांग कर रहे हैं।


युवा हाथों को सौंप दें पार्टी की कमान
इस बीच सपा एमएलसी आनंद भदौरिया ने भी मुलायम सिंह यादव से नेतृत्व बदलने की मांग की है। उन्‍होंने कहा कि नेताा जी बीच युद्ध में सेनापति न बदलें। आनंद भदौरिया ने कहा कि मुलायम पार्टी को अब युवा हाथों को सौंप दें।

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top