Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

अब शरद यादव ने दिया विवादित बयान, कांवड़ियों को बताया बेरोजगारी की निशानी

 Tahlka News |  2016-08-06 13:55:43.0

sharad_yadav
तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. नेताओं को जैसे विवादित बयान देने की आदत होती जा रही है. एक विवादित बयान देकर नेता खामोश हो जाते हैं फिर उसी बयान पर कुछ दिन बवाल चलता रहता है. दयाशंकर की मायावती पर विवादित टिप्पड़ी ने राजनीति में तूफ़ान ला दिया. बुलंदशहर में गैंगरेप हुआ तो आज़म खां ने उसे सियासी साज़िश बताकर एक और तूफ़ान ला दिया. भाजपा बेटी के सम्मान में भाजपा मैदान में नारा लगा रही है लेकिन भाजपा नेता आईपी सिंह ने आज़म खां की पत्नी और बेटी पर विवादित टिप्पड़ी कर हंगामा मचा दिया. विवादित बयानों की श्रंखला में ताज़ा बयान जदयू नेता शरद यादव का है.


जनता दल युनाइटेड के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव कानपुर आये तो उन्होंने कांवड़ियों पर विवादित बयान देकर विवाद का एक नया चैप्टर खोल दिया. उन्होंने कांवड़ियों को बेरोजगारी की निशानी बता दिया. इस बयान पर धर्मगुरु भी नाराज़ हो गए हैं और शिवभक्त भी आक्रोश में आ गए हैं. हिन्दू महासभा के स्वामी चक्रपाणी, सुमेरू पीठाधीश्वर स्वामी नरेन्द्र नन्द, अखाड़ा परिषद के नरेन्द्र गिरि और आत्मानन्द ब्रह्मचारी शरद यादव के बयान से बेहद नाराज़ हैं.


सावन के महीने लाखों शिवभक्त जलाभिषेक के लिए पैदल निकलते हैं. यह आस्था से जुड़ा मुद्दा है और इस मुद्दे पर कोई भी धार्मिक व्यक्ति कुछ सुनने को तैयार नहीं होता है. कांवड़ियों का शिवभक्त काफी सम्मान करते हैं. सड़कों पर जगह-जगह उनके जलपान और आराम करने की जगहें बनाई जाती हैं. उन्हें बेरोजगारी का नमूना बताया गया तो शिवभक्तों को काफी बुरा लगा.


अगले साल यूपी में विधानसभा चुनाव होने हैं. विवादित बयानों को इन्हीं चुनावों से जोड़कर देखा जा रहा है. सस्ती लोकप्रियता के चक्कर में सियासी जमात ने सियासत के दामन पर जो धब्बा लगाने का क्रम शुरू किया है. वह यूपी में चुनाव सम्पन्न होने तक जारी रहता दिखाई दे रहा है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top