Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

सपा के बैंक खाते फ्रीज, इन बैंक अकाउंट्स में करीब 500 करोड़ जमा

 Girish |  2017-01-06 03:33:31.0



तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ:
समाजवादी पार्टी में चल रहे विवाद के बीच सपा के सभी बैंक खाते गुरुवार को फ्रीज कर दिए गए हैं। दिल्‍ली, लखनऊ, इटावा, में कई बैंकों की शाखाअाें में सपा के लगभग 500 करोड़ रुपए जमा हैं। इन बैंको से फिलहाल कोई लेन-देन नहींं हो सकेगा। सूत्रों के अनुसार, अखिलेश यादव धड़े के एक बड़े नेता के पत्र के बाद यह कार्रवाई की। इसे विधानसभा चुनाव से ठीक पहले मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है।

अध्यक्ष पद पर बदलाव के बाद लिया फैसला
अखिलेश के पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद उनकी टीम की ओर से स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और केनरा बैंक में अर्जी दी गई थी। अर्जी में कहा गया था कि अध्यक्ष पद पर बदलाव हो गया है, इस वजह से खातों का संचालन रोक दिया जाए। बैंकों ने अर्जी मिलने के बाद खातों के संचालन पर रोक लगा दी है।


350 करोड़ का फिक्‍स डिपॉजिट
सूत्रों का कहना है क‍ि बैंक ऑफ इंडिया, कैनरा बैंक, स्‍टेट बैंक, विजया बैंक और यूपी कोऑपरेटिव बैंक की लखनऊ शाखा में सपा के खाते हैं। इसके अलावा दिल्‍ली के स्‍टेट बैंक और इटावा के बैंक आॅफ बड़ौदा में भी उसके खाते हैं। सूत्रों का दावा है कि 350 करोड़ की रकम फिक्‍स डिपॉजिट केे तौर पर जमा है। लखलऊ के स्‍टेट बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा में क्रमश: 23 करोड़ और 19 करोड़ रुपए जमा होने की बात भी कही जा रही है।

इन बैंकों में समाजवादी पार्टी के अकाउंट फ्रीज


बैंक ऑफ बड़ौदा- लखनऊ
बैंक ऑफ बड़ोदा- न्यू कॉलोनी इटावा
कैनरा बैंक-लखनऊ
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया-नई दिल्ली
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया-लखनऊ
यूपी को-आपरेटिव बैंक लिमिटेड-लखनऊ
विजया बैंक-लखनऊ

शिवपाल को लगा झटका
सूत्रों का कहना है कि टीम अखिलेश की ओर से बैंकों में दी गई अर्जी में अखिलेश के साथ मुलायम को भी रकम निकालने का अधिकार देने की गुजारिश की गई है। अब तक लखनऊ की मुख्य ब्रांच में मौजूद इन खातों का संचालन शिवपाल यादव के हस्ताक्षर होता था। सूत्रों का कहना है कि स्टेट बैंक के अकाउंट में 253 करोड़ रुपये जमा हैं। दूसरे खाते की रकम के बारे में जानकारी नहीं मिल सकी है। बैंक प्रबंधन का कहना है कि अकाउंट के संचालन पर रोक लगा दी गई है।

जनेश्वर मिश्र ट्रस्ट में भी खासी रकम
सूत्रों का कहना है कि विवाद के बीच अगर अकाउंट का संचालन शुरू नहीं हो पाया तब भी अखिलेश गुट ने अपना इंतजाम अलग से कर रखा है। कहा जा रहा है कि जनेश्वर मिश्र ट्रस्ट में भी खासी रकम है। सिंबल फ्रीज होने के बाद अलग चुनाव भी लड़ना पड़े तो इस खाते के पैसों का इस्तेमाल चुनाव के लिए किया जा सकता है।

मुलायम के दोनों भाई भी पहुंचे
सियासत से दूर सैफई में रहने वाले मुलायम के दो छोटे भाइयों ने पहली बार परिवार के झगड़े में दखल दिया है। सांसद धर्मेद्र यादव के पिता अभय राम यादव और दूसरे भाई राजपाल यादव भी गुरुवार को मुलायम के घर पर चल रही बैठक में शामिल हुए। दोनों सैफई से लखनऊ आए हैं। घर की पंचायत में अखिलेश को छोड़ परिवार के सभी सदस्य मौजूद थे। शुक्रवार को दोनों भाई सीएम अखिलेश यादव से भी बात करेंगे।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top