Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

केरल में वाम मोर्चा सरकार में संकट : कांग्रेस

 Vikas Tiwari |  2016-05-30 17:27:31.0

download (1)
तिरुवनंतपुरम.  कांग्रेस की केरल इकाई ने कहा है कि एक सप्ताह से भी कम पुरानी वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) सरकार में शामिल दो प्रमुख पार्टियों भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) तथा मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के बीच संकट पैदा हो गया है। केरल विधानसभा के नवनियुक्त नेता प्रतिपक्ष रमेश चेन्निथला ने यहां सोमवार को संवाददाताओं से कहा कि नई सरकार के लिए सामान्यत: छह महीने का समय हनीमून पीरियड माना जाता है।


चेन्निथला ने कहा, "लेकिन माकपा तथा भाकपा गठबंधन में दरार साफ दिख रही है। जिस प्रकार मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने स्पष्ट किया है कि मुल्लापेरियार बांध की जगह किसी नए बांध की जरूरत नहीं है, यह एक बांध के लिए केरल विधानसभा में सर्वसम्मति से पारित प्रस्ताव का पूर्णत: उल्लंघन है।"

प्रदेश में बीते बुधवार को 18 सदस्यों वाली कैबिनेट के साथ मुख्यमंत्री पद की शपथ ले चुके विजयन ने पिछले सप्ताह दिल्ली में साफ कहा कि मुल्लापेरियार बांध की जगह पर किसी नए बांध की तत्काल जरूरत नहीं है और मुद्दे का समाधान तमिलनाडु के साथ बातचीत से कर लिया जाएगा।

त्रावणकोर महाराज और तत्काल ब्रिटिश सरकार के बीच 1886 में हुए एक समझौते के तहत बने बांध को लेकर केरल व तमिलनाडु के बीच गतिरोध की स्थिति बनी हुई है।

बांध केरल में बना हुआ है, लेकिन उसका रख-रखाव तमिलनाडु सरकार करती है, जबकि केरल इस बांध को बंद करने की मांग कर रहा है, क्योंकि इसमें दरारें आ गई हैं।

केरल सरकार ने कहा है कि बांध से राज्य के पांच जिलों में जानमाल को खतरा है, क्योंकि तमिलनाडु सरकार बांध के जलस्तर को बढ़ाना चाहती है।

लेकिन सर्वोच्च न्यायालय द्वारा मई 2014 में दिए गए निर्देश के मुताबिक, तमिलनाडु जलस्तर को 136 फुट से बढ़ाकर 142 फुट कर सकता है, लेकिन इसे 142 फुट से अधिक नहीं होना चाहिए।

केरल विधानसभा ने एक विशेष सत्र बुलाकर सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित किया, जिसमें इसके समाधान के लिए नए बांध के निर्माण की बात कही गई है।

चेन्निथला ने कहा, "विजयन इस बात को भलीभांति जानते हैं कि नए बांध के निर्माण के लिए सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित हो चुका है और मुद्दे पर उनके रुख में अचानक बदलाव से कई लोग नाराज हैं। मुद्दे पर हमारा रुख पूरी तरह स्पष्ट है और हम नया बांध चाहते हैं। अब हम इंतजार करेंगे और देखेंगे कि विजयन सरकार क्या करती है।"

एलडीएफ के चुनावी घोषणा पत्र में भी मुल्लापेरियार में नए बांध के निर्माण का जिक्र है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top