Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

उस्ताद बिस्मिल्लाह खान की शहनाई भी न छोड़ी चोरों ने

 Anurag Tiwari |  2016-12-05 04:01:31.0

Ustad Bismillah Khan, Shahnai, Varanasi, Theft, Crime, Varanasi Crime


तहलका न्यूज ब्यूरो

वाराणसी. बनारस की संगीत परम्परा और गंगा-जमुनी तहजीब की निशानी माने जाने वाले मरहूम उस्ताद बिस्मिल्लाह खान भी चोरों किए निशाने पर आने से न बच सके. शानिवार को उस्ताद की पांच चांदी की शहनाई शनिवार को उनके बेटे काजिम हुसैन के चाहमामा-दालमंडी स्थित आवास से चोरी हो गई. इनमे वह शहनाई भी शामिल है, जिसे उस्ताद खासतौर पर मोहर्रम की पांचवी और सातवीं तारीख पर आंसुओं का नजराना पेश करते थे.

चोरों ने उन्हें इनाम में मिली चांदी की कई तश्तरियां और लाखों रुपये के जेवरात पर भी हाथ साफ़ कर दिया. उसताद की इन निशानियों के गायब होने की गंभीरता को इसी से समझा जा सकता है कि जब इस मामले में रिपोर्ट दर्ज कराने उनके बेटे उस्ताद काजिम चौक थाने पहुंचे तो फूट-फूट कर रो पड़े. काजिम चहमामा वाले घर पर ताला लगाकर 30 नवंबर को बीकाशाह स्थित मकान पर चले गए थे। रविवार की शाम जब घर आए, तब मकान का दरवाजे का ताला खुला हुआ था। भीतर जाने पर बड़े बॉक्स का ताला टूटा हुआ मिला और उसमे रखी पांचों शहनाइयां गायब थीं.

पाने पुश्तैनी घर पहुंचे उस्ताद के बेटे नाजिम को जैसे ही इस बात का एहसास हुआ कि उनके वालिद भारत रत्न उस्ताद बिस्मिल्लाह खां की धरोहर चोरी चली गई तो उनकी आँखों से आंसू बहने लगे. वे चौक कोतवाली के इंस्पेक्टर को इस वाकये के बारे में बतेत समय रोते ही रहे. मामले की गंभीरता की समझते हुए चौक इंस्पेक्टर देर रात पुलिस टीम के साथ घुघरानी गली स्थित चाहमामा इलाके में उस्ताद के मकान पर पहुंचे और पड़ताल शुरू की. एसपी नितिन तिवारी के निर्देश पर मौके पर क्राइम ब्रांच और डागस्क्वायड भी पहुँच गई थी.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top