Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मां-बाप के जिंदा रहते हुए अनाथ, बच्चों ने मांगी इच्छा मृत्यु

 Anurag Tiwari |  2016-12-15 07:16:59.0

[caption id="attachment_141391" align="aligncenter" width="1024"]Varanasi, Chandauli, Euthanasia, Euthnesia, Anushka, Mother, father, Anti Dowry Act, DIG Police, Police प्रतीकात्मक चित्र[/caption]

तहलका न्यूज ब्यूरो

चंदौली. मां-बाप के जिंदा रहते भी हुए भी तीन मासूम अनाथों की जिंदगी जीने को मजबूर हैं. इसका कारण कोई और नहीं बल्कि इन बच्चों का मामा है.

मामला चंदौली के बर्थराखुर्द इलाके का है . यहां की रहने वाली 12 वर्षीया अनुष्का पांडेय ने जिला प्रशासन ने इच्छा मृत्यु की परमिशन मांगी है. बच्चों की इस मांग से पूरे महकमे हडकंप मचा हुआ है. अनुष्का ने अपने सगे मामा पर पिता को फर्जी मुकदमे में फंसाने और मां को गायब करने का आरोप लगाया है. पिछले दस माह से उसके पिता के जेल में रहने और मां के लापता होने के बाद से अनुष्का व उसके छोटे भाई-बहन की स्थित दयनीय हो गई है. हालात यह हैं कि इन बच्चों की पढाई भी बाधित हो चुकी है.



अनुष्का ने बताया कि उसका और भाई-बहनों का स्कूल से नाम कट चुका है और खाने पीने तक के लाले पड़ चुके हैं. इस स्थिति को झेलते-झेलते आखिरकार अनुष्का का धैर्य जवाब दे गया और उसने बुधवार को वाराणसी रेंज के डीआईजी विजय भूषण से मिलकर इच्छा मृत्यु की मांग रखी. डीआईजी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए चंदौली पुलिस को तुरंत जांच के आदेश दे दिए हैं.

अनुष्का ने डीआईजी से मिलकर बताया कि 13 साल पहले उसकी मां गुड़िया की और पहले पिता ओमप्रकाश पांडेय से शादी हुई थी. बीते साल 14 नवम्बर 2015 को पिपरी गांव निवासी उसके मामा चंद्रशेखर तिवारी उसके घर आए और बताया कि नानी की तबियत बहुत ज्यादा खाराब है. इसके बाद वे गुड़िया को अपने साथ लेते गए. जाते समय मां ने भरोसा दिलाया था कि वे बीमार नानी का हालचाल लेकर वापस आ जाएंगी.


इसके ठीक एक महीने बाद बाद मामा ने 15 दिसम्बर 2015 को चंदौली थाने में पिता के खिलाफ दहेज उत्पीड़न और मां के अपहरण की रिपोर्ट दर्ज करा दी. साथ ही यह भी आरोप लगा दिया कि अनुष्का के पिता ने दूसरी शादी भी कर ली है. पुलिस ने इस रिपोर्ट के आधार पर पिता को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. अब धीरे-धीरे एक साल हो गए हैं, पिता जेल में और मां लापता हैं.


दादी के साथ रह रही अनुष्का ने डीआईजी से गुहार लगाई कि मां-बाप के अलावा उनका कोई सहारा नहीं है. घर पर किसी के न होने के चलते इन बच्चों की फीस भी जमा नहीं हुई और स्कूल से तीनों भाई-बहनों के नाम काट दिए गए हैं. अनुष्का ने कहा कि उसके पिता निर्दोष हैं और मामा की नीयत ठीक न होने के चलते माँ लापता कर दी गई है है। अनुष्का ने डीआईजी से गुहार लगाई है कि इस मामले की जांच करा उनके पिता को जेल से आजादी दिलाया जाए और मां का पता लगाया जाए. अनुष्का ने मांग रखी है कि अगर प्रशाशन ऐसा करने में नाकाम रहाता है तो उसे और उसके भाई-बहनों को इच्छा मृत्यु की अनुमति दी जाए.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top