Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पब्लिक से जुड़े हर विभाग तक ले जाएगा ट्विटर : रहील खुर्शीद

 Sabahat Vijeta |  2016-09-08 14:17:55.0

Raheel-Khursheed
शबाहत हुसैन विजेता


लखनऊ. ट्विटर इंडिया के हेड ऑफ़ न्यूज़, गवर्नमिंट एंड पालिटिक्स पार्टनरशिप रहील खुर्शीद आज नवाबों के शहर लखनऊ में मेहमान थे. रहील पत्रकारिता छोड़कर इस पेशे से जुड़े हैं और इस समय ट्विटर पर बड़ी ज़िम्मेदारियां निभा रहे हैं. यूपी पुलिस को ट्विटर पर लांच करने लखनऊ आये रहील ने तहलका न्यूज़ से भी ख़ास बात की.


रहील खुर्शीद यह मानते हैं कि ट्विटर अभी कमज़ोर तबके का टूल नहीं है और कमज़ोर तबके को ही पुलिस की सबसे ज्यादा ज़रुरत पड़ती है लेकिन उन्हें लगता है कि आने वाले दिनों में कमज़ोर तबक़ा भी ट्विटर पर नज़र आयेगा.


उन्होंने बताया कि 2014 में उन्होंने बंगलौर पुलिस के साथ काम शुरू किया था. बंगलौर में इसका काफी अच्छा रिज़ल्ट नज़र आया. इसी बीच यूपी पुलिस ने भी संपर्क किया तो यहाँ भी काम शुरू कर दिया. रहील खुर्शीद का कहना है कि जैसे-जैसे डाटा सस्ता हो रहा है और जैसे-जैसे मोबाइल फोन आम होते जा रहे हैं वैसे-वैसे ट्विटर का प्रयोग भी बढ़ रहा है.


पुलिस के साथ काम करने की ज़रुरत क्यों महसूस की ? पूछने पर उन्होंने कहा कि हम हर उस डिपार्टमेंट के साथ काम करना चाहते हैं जो पब्लिक से जुड़ा है. रेलवे ट्विटर पर आया तो परिणाम सामने है. रोजाना सैकड़ों लोगों की दिक्क़तें ट्विटर दूर कर देता है.


उन्होंने कहा कि बहुत से लोग हैं जो पुलिस के बड़े अफसरों तक अपनी शिकायत नहीं पहुंचा पाते जबकि उनके पास इंटरनेट की सुविधा भी है और वह उसका इस्तेमाल भी करते हैं. ऐसे लोग तो सिर्फ एक क्लिक से पुलिस विभाग के मुखिया तक अपनी शिकायत पहुंचा सकते हैं. दूसरे अगर किसी ने ट्विट कर दिया है तो उसकी शिकायत तो रिकार्ड पर आ गई है और उसका संज्ञान लिया जाना भी तय है. आगे चलकर देश का कमज़ोर तबका भी ट्विटर से जुड़ेगा और उसकी दिक्क़तें भी दूर हो सकेंगी.


रहील ने कहा कि कई बार आप जो नहीं सोचते वह हो जाता है. ट्विटर के मामले में भी यह बात सच साबित हो जाती है. उन्होंने कहा कि मेरठ, औरैया और दूसरी जगहों के लोग रोज़-रोज़ तो लखनऊ आकर सीनियर पुलिस अफसरों से नहीं मिल सकते. वह आ भी जाएँ तो क्या ज़रूरी है कि वह अफसर भी उस दिन लखनऊ में ही लेकिन अगर उसने ट्विट कर दिया है तो पुलिस अफसर कहीं भी हो वह वहीं पर समस्या के बारे में जान लेगा और अपने अधीनस्थ को निर्देश दे देगा.


उन्होंने कहा कि अब लाइफ इतनी फास्ट हो गई है कि हफ़्तों लोग सफ़र में रहते हैं. ऐसे लोगों के लिए ट्विटर बहुत काम का टूल है. उन्होंने कहा कि आज यूपी पुलिस का ट्विटर शुरू हो गया है. इसे पूरे देश तक पहुंचाना है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top