Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

ये कैसा गठबंधन: यूपी चुनाव हारने के बाद अखिलेश के साथ नहीं खड़े थे राहुल गांधी

 Abhishek Tripathi |  2017-03-14 07:14:19.0

ये कैसा गठबंधन: यूपी चुनाव हारने के बाद अखिलेश के साथ नहीं खड़े थे राहुल गांधी

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ. यूपी विधानसभा चुनाव 2017 में समाजवादी पार्टी-कांग्रेस गठबंधन को जनता ने एकसिरे से नकार दिया। चुनाव नतीजों से पहले सपा के मुखिया और यूपी के सीएम अखिलेश यादव कह रहे थे 'ये दो राजनीतिक पार्टियों का नहीं बल्कि दो युवाओं का गठबंधन है।' वहीं, बीजेपी से करारी हार मिलने के बाद 11 मार्च को जब अखिलेश यादव ने प्रेस कांफ्रेंस कर मीडिया को संबोधित किया तो वे अकेले थे। इस कांफ्रेंस में अखिलेश का साथ देने और हार की जिम्‍मेदारी लेने के लिए वहां पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी मौजूद नहीं थे। बीजेपी ने सवाल किया है 'ये कैसा गठबंधन है। जब तक जीत के आसार थे साथ दिखते रहे, लेकिन हार के बाद अलग हो गए।

बता दें, अखिलेश यादव ने प्रेस कांफ्रेंस करते हुए यह भी कहा था' कांग्रेस के साथ समाजवादी पार्टी का गठबंधन जारी रहेगा।' वहीं, अब तक राहुल गांधी की ओर से गठबंधन को आगे निभाने का कोई बयान नहीं आया है। इस मामले में बीजेपी का कहना है कि राहुल गांधी अपनी पार्टी की हार को पचा नहीं पा रहे हैं और जनता से मुखातिब होने से डर रहे हैं।

कम नहीं था अखिलेश का जादू
बता दें कि 2012 के चुनावों में यूपी की जनता ने अखिलेश को बहुमत सौंपा था। उन चुनावों में सपा को कुल 224 सीटों पर जीत मिली थी, जबकि उसके पक्ष में कुल 29.29 प्रतिशत वोट पड़े थे। दूसरे नंबर पर बीएसपी थी जिसे कुल 80 सीटें हासिल हुई थीं, जबकि उसका वोट शेयर था 25.95 प्रतिशत।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top