Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

यूपी: सड़क बनाने के नाम पर बड़ा घोटाला, ठेकेदारों ने डकारे 455 करोड़, FIR दर्ज

 Abhishek Tripathi |  2017-02-25 05:12:23.0

यूपी: सड़क बनाने के नाम पर बड़ा घोटाला, ठेकेदारों ने डकारे 455 करोड़, FIR दर्ज

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ. यूपी विधानसभा चुनाव के नतीजे आने में अभी दो हफ्ते का समय है, लेकिन अखिलेश सरकार पहले ही बुरी तरह फंसती नजर आ रही है। नए मामले में खुलासा हुआ है कि फोरलेन सड़क बनाने के नाम पर बैंक अफसरों की मदद से ठेका उठाने वाली कंपनियों ने सरकार के 455 करोड़ रुपए डकार लिए। मामले में आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी गई है।

बता दें, इस फोरलेन को दिल्ली-सहारनपुर से यमुनोत्री मार्ग (एनएच 57) पर बनाया जाना था। ऐसे में करीब 206 किमी लंबा फोरलेन बनना था। अब इस सड़क को बनाने के लिए जिन कंस्‍ट्रक्‍शन कंपनियों को ठेका दिया गया, उन्‍होंने चालाकी दिखाते हुए बैंकों के अधिकारियों से सांठ-गांठ कर ली। इसके बाद सिर्फ कागजों पर फोरलेन सड़क बनाई गई जबकि बैंकों से 455 करोड़ रुपए सरकार के ले लिए।

मामले में उप्सा के परियोजना महाप्रबंधक शिवकुमार अवधिया ने विभिन्न ठेकेदार कंपनियों के डायरेक्टर्स और बैंकों के चार्टर्ड अकाउंटेंट्स समेत 18 लोगों के खिलाफ विभूतिखंड थाने में धोखाधड़ी और अमानत में खयानत की एफआईआर दर्ज कराई है।

परियोजना महाप्रबंधक ने बताया कि फोरलेन निर्माण का काम मेसर्स एसईडब्ल्यू-एसएसवाई हाइवेज लिमिटेड को दिया गया था। उप्सा ने इसके लिए कंपनी के प्रमोटर डायरेक्टर हैदराबाद की श्रीनगर कालोनी निवासी सुकरवा अनिल कुमार और अलोरी साईबाबा से एक अगस्त 2011 को एग्रीमेंट किया था। डायरेक्टर्स ने 30 मार्च 2012 को काम शुरू करके 900 दिन में काम पूरा करने का दावा किया। परियोजना की कीमत 1735 करोड़ रुपये थी।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top