Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

यूपी चुनाव: बहुजन मुस्लिम महासभा ने 'सपा' को दिया समर्थन

 Avinash |  2017-02-06 14:16:51.0

यूपी चुनाव: बहुजन मुस्लिम महासभा ने सपा को दिया समर्थन

तहलका न्यूज़ ब्यूरो
लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की अनुमति से सोमवार को जहां वली मोहम्मद, राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुस्लिम महासभा के नेतृत्व में सैकड़ों पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने समाजवादी पार्टी की विचारधारा से प्रभावित होकर बिना शर्त उसके समर्थन एवं सहयोग का वचन दिया है वहीं फैजाबाद के वरिष्ठ बसपा नेता मायाराम वर्मा के नेतृत्व में बसपा, भाजपा छोड़कर बड़ी संख्या में सभासद, ग्राम प्रधान, शिक्षक, तथा एडवोकेट समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। बिंदकी, फतेहपुर से बसपा में महामंत्री और उपाध्यक्ष रहे असलम खान ने भी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की है। आशा है कि इन साथियों के आने से समाजवादी पार्टी को वर्ष 2017 के चुनावों में मजबूती मिलेगी।
बहुजन मुस्लिम महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष वली मोहम्मद के नेतृत्व में पीरजादेगान, सज्जादेगाान, मोहतमिन दरगाह आले कुदैसिया हजरत सरकार बदिउद्दीन कुतबुल मदार जिंदाशाह मदार, मकनपुर शरीफ, बिल्हौर, कानपुर सहित राष्ट्रीय, प्रदेश, मध्य प्रदेश, सरपरस्त सज्जादगाान, खानकाह शरीफ, जिला पदाधिकारी सहित सभी समाजवादी पार्टी के समर्थन में एकजुट हुए है। उन्होंने पार्टी को पूर्ण सहयोग एवं समर्थन का वचन दिया है।
आज फैजाबाद के मायाराम वर्मा, पूर्व प्रत्याशी बसपा तथा जुग्गीलाल यादव, पूर्व चेयरमैन नगरपंचायत, बीकापुर के नेतृत्व में दर्जनों सभासद, ग्राम प्रधान एवं क्षेत्र पंचायत सदस्य सहित समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए है। इस अवसर पर श्री आनंदसेन, विधायक श्री अभय नारायण पटेल, विधायक, रीबू श्रीवास्तव, प्रदेश सचिव, मो0 एबाद भाई तथा संजय यादव जिला सचिव फैजाबाद की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।

मोदी अच्छे दिन नहीं ला पाए, लेकिन दो अच्छे नेता साथ आ गए

समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी द्वारा समाजवादी पार्टी और कांग्रेस गठबंधन का राजनीति पर सकारात्मक प्रभाव एवं अखिलेश यादव एवं राहुल गांधी के संयुक्त नेतृत्व में नई सम्भावनाओं का ब्यौरा प्रस्तुत किया.

उन्होंने कहा कि, उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों के दौर में जहां मुख्यमंत्री अखिलेश यादव धर्मनिरपेक्षता, लोकतंत्र एवं समाजवादी विचार के साथ विकास के मुद्दे को लेकर जनता के बीच जा रहे हैं वहीं जातीयता और सांप्रदायिक ताकतों की ताकतें प्रदेश की जनता को बरगलाने से बाज नहीं आ रही हैं। सांप्रदायिकता की जहरीली हवा के प्रदूषण को दूर करने के लिए समाजवादी पार्टी-कांग्रेस साथ-साथ समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव और कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने जनता तक अपना संदेश पहुंचाने के लिए रोड शो का माध्यम भी अपनाया है।
मोदी जी अच्छे दिन तो नही ला पाये लेकिन दो अच्छे नेता अखिलेश यादव और राहुल गांधी जरूर साथ आ गये हैं। अब उत्तर प्रदेश में मोदी जी की दाल नहीं गलने वाली है। यूपी की जनता को भाजपा ने एक बार फिर धोखा देना तय किया है। लेकिन लोकतंत्र के साथ ठगी नहीं चल सकती। भाजपा नेताओं का छल अब उत्तर प्रदेश में ही नहीं -गुजरात में भी नही चल सकेगा। भाजपा नेताओं की यूपी को बदनाम करने की रणनीति को जनता जान चुकी है। उत्तर प्रदेश की जनता का अखिलेश यादव के नेतृत्व में अटूट विश्वास है।
लखनऊ और आगरा में अखिलेश यादव और राहुल गांधी ने विजय रथ पर एक साथ खड़े होकर जनता का अभिवादन किया है। समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के एक साथ आने से उत्तर प्रदेश में एक नए विश्वास का संचार हुआ है। आगरा में सपा-कांग्रेस गठबंधन के प्रत्याशियों के समर्थन में अखिलेश यादव और राहुल गांधी के रोड शो ने कीर्तिमान रच दिया। जिस प्रकार लखनऊ के रोड शो में लाखों की संख्या में जनता दोनों नेताओं के समर्थन में उमड़ी वैसा जन सैलाब पिछले कई दशकों में देखने को नही मिला।
इसी प्रकार आगरा के रोड शो ने सूबे की राजनीति की दिशा को बदल दिया। आगरा उत्तर प्रदेश की सांस्कृतिक राजधानी के रूप में विश्व विख्यात है। 12 किलोमीटर की लखनऊ की रथयात्रा और 9 किलोमीटर आगरा की रथयात्रा में उमड़ी भीड़ के समर्थन और समाज के सभी वर्गों की भागीदारी से यह स्पष्ट संदेश था कि जनता ने अखिलेश यादव के नेतृत्व में सरकार बनाने का फैसला सुना दिया है। उत्तर प्रदेश के चुनाव की तरफ पूरा देश देख रहा है।
लखनऊ -आगरा के रोड शो 'विकास से विजय की ओर' के बाद उत्तर प्रदेश की औद्योगिक राजधानी कानपुर में अखिलेश यादव और राहुल गांधी की संयुक्त जनसभा अखिलेश यादव को दुबारा मुख्यमंत्री बनाने के लिये विजय घोष किया। गांव, गरीब, किसान, नौजवान, महिला, अल्पसंख्यक हितैषी कार्यों की वजह से कानपुर की जनता ने दुबारा पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने के प्रति अपना पूरा समर्थन व्यक्त किया।
अखिलेश यादव के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश ने सभी क्षेत्रों में विकास के जो कार्य किये है उससे विपक्षी दलों को अपनी राजनैतिक जमीन खिसकती नज़र आ रही है। ऐसे में दोनों युवा नेताओं का यूपी के चुनावी समर में एक साथ निकलना और रथ साझा करना साम्प्रदायिक शक्तियों को उखाड़ फेंकने में सक्षम है। यही सक्षम नेतृत्व उत्तर प्रदेश को विकास एवं समृद्धि की नई बुलंदियों की ओर ले जायेगी। इसीलिए भाजपा को दिल्ली के खतरे का अंदेशा स्वाभाविक है। उत्तर प्रदेश की फतेह की दस्तक का संदेश है।
मेरठ और अलीगढ़ में आयोजित हुयी बीजेपी की रैली में प्रधानमंत्री जी ने एक बार फिर भ्रम फैलाने का कार्य किया है। हालिया पेश किये गये किसान विरोधी और गरीब विरोधी बजट प्रस्तुत करने के बाद प्रधानमंत्री गरीबी से मुक्ति का झूठा दुष्प्रचार करने में लगे है। साम्प्रदायिकता का सहारा लेकर भाजपा यूपी चुनाव को प्रभावित करना चाहती है जबकि उत्तर प्रदेश की जनता का पूरा भरोसा श्री अखिलेश यादव के कुशल नेतृत्व पर मजबूत हुआ है।

Tags:    

Avinash ( 3157 )

Tahlka News Contributors help bring you the latest news around you.


  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top