Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

काशी की बिटिया ने रचा इतिहास, 123 घंटे 20 मिनट तक किया कथक डांस

 Tahlka News |  2016-04-09 16:25:52.0

a1तहलका न्यूज ब्यूरो
वाराणसी, 9 अप्रैल. शनिवार की रात 9:20 बजे कथक नृत्यांगना सोनी चौरसिया ने मुकाम हासिल कर लिया। काशी की बेटी सोनी चौरसिया ने मैदान मार लिया, विश्व रिकार्ड अपने नाम कर लिया। लगातार 124 घंटे कथक नृत्य कर उन्होंने केरल के त्रिचूर की हेमलता कमंडलु का 123 घंटे 20 मिनट तक मोहिनी अट्टम नृत्य का रिकार्ड तोड़ दिया। इसी के साथ काशी का नाम फिर क्षितिज पर छा गया।


सुबह से बदल गई भाव भंगिमाएं
आज सुबह छह बजे जब कथक नृत्य करते 105 घंटे पूरे हुए, तभी से सोनी की भाव भंगिमाएं जीत की कथा लिखती नजर आने लगीं। पिछले पांच दिनों की थकान का कोई निशान न तो उनके चेहरे पर था, न कदमों में। प्रस्तुति का अंदाज पूरी तरह सध चुका था। हौसला बढ़ाने वालों का सिलसिला भी सुबह से ही शुरू हो चुका था। इनमें राजनेता से लेकर शहर के गणमान्य और आम लोग सभी थे।


दोपहर के बाद पूरा शहर उमड़ा
वाराणसी के रोहनिया-खुशीपुर बाईपास स्थित निजी विद्यालय का वह सभागार, जहां सोनी प्रस्तुति दे रही थीं, दोपहर के बाद ही खचाखच भर चुका था। शाम होते-होते तो मानो पूरा शहर उमड़ पड़ा अपनी बेटी की हौसला अफजाई को। जीत की ओर बढ़ती सोनी का उत्साह भी चरम पर था। अंतिम दो घंटों के दौरान तो गीत के बोलों को वह खुद गुनगुनाने लगी थीं।


सामान्य परिवार के गजब संस्कार
सामान्य चौरसिया परिवार में जन्मी सोनी का बचपन से ही नृत्य-संगीत की ओर रुझान था। उसका यह रुझान वर्ष 2010 में रिकार्ड कायम कर गया। तब जब कथक प्रस्तुति में उसने लिम्का बुक में अपना नाम दर्ज कराया। इसके बाद भी त्रिचूर-केरल की हेमलता कमंडलु का 123 घंटे 20 मिनट तक मोहिनी अट्टम नृत्य का विश्व रिकॉर्ड उसे लगातार चुनौती देता रहा। इसे सोनी ने लक्ष्य बनाया। प्रयास आर्य महिला पीजी कालेज के मंच पर नवंबर 2015 में सामने आया। हालांकि, तब वे सफल नहीं हो पाईं लेकिन लिम्का बुक में एक बार फिर नाम दोहराया और उनका संकल्प भी दोहरी मजबूती से दो गुना हो आया। इसके बाद तो कठिन रियाज और दृढ़ इच्छाशक्ति से अंतत: उसने शनिवार को मुकाम हासिल कर लिया।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top