Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

आँखों देखी:खूब हुई क्रास वोटिंग, पूरा हुआ MLC का मतदान

 Tahlka News |  2016-06-10 11:09:19.0

up-vidhan-600x400

उत्कर्ष सिन्हा

लखनऊ. मीडिया के जमावड़े और हर पल उड़ती क्रास वोटिंग की खबरों के बीच यूपी की विधान परिषद् के 13 सीटों के लिए हुआ मतदान संपन्न हो गया. आज हुए मतदान के नतीजे कल होने वाले राज्यसभा की 11 सीटो का रुझान भी तय कर देंगे. इसके साथ ही सूबे में बहती सियासी हवा का इशारा भी दिखाई देने लगेगा.

बसपा द्वारा 3 और भाजपा के 2 उम्मीदवार उतारने से MLC का यह चुनाव बहुत दिलचस्प हो गया है. बसपा के पास जरुरी 29 मतों में से तीसरे उम्मीदवार के लिए 7 अतिरिक्त वोटो की जरुरत है तो वहीँ भाजपा के दूसरे उम्मीदवार को जीतने के लिए 12 और वोटो की जरुरत है. जाहिर है दूसरे दलों के बागियों के बिना इन वोटो का जुगाड़ होना संभव ही नहीं है.


सूबे में सबसे ज्यादा विधायक वाली सत्ताधारी पार्टी के विधायको में से लगभग आधा दर्जन आज टूट गए. यह संख्या लगभग दोगुनी होने वाली थी मगर इसका अंदेशा होते ही बीते दो दिनों में सपा नेतृत्व ने इन संदिघ्ध विधायको को सहेजना शुरू कर दिया था.

अम्बेडकर नगर से विधायक शमशेर बहादुर सिंह के बैठक में न पहुँचने से जब इस बात की संभावना तेज हुयी तब रातोरात सपा सरकार के एक तेजतर्रार युवा मंत्री ने उनके घर जा कर उनसे पैड पर दस्तखत करवा लिए.

चर्चा राजधानी के दो सपा विधायको रविदास मेहरोत्रा और शारदा प्रताप शुक्ल और महाराजगंज के विधायक सुदामा प्रसाद के बागी होने की भी थी मगर सूत्रों की माने तो इन्हें भी समझाने में सपा नेतृत्व कामयाब रहा.

आज क्रास वोटिंग करने वाले सपा विधायको में से अधिकांश पश्चिमी यूपी से आते हैं. इस इलाके में समाजवादी पार्टी के टिकट पर वे अपना भविष्य नहीं सुरक्षित पा रहे थे. चर्चा रही कि भाजपा ने उन्हें 2017 के लिए विधान सभा का टिकट देने का वादा किया है.

भाजपा के साथ अपना दल के 1, रालोद के 1 बागी, निर्दलीय 2 और सपा से निष्काषित रामपाल का 1 वोट तो घोषित रूप से था, मगर शुक्रवार की सुबह भाजपा विधायक संगीत सोम के साथ वोट डालने आये सपा विधायक गुड्डू पंडित और उनके विधायक भाई मुकेश शर्मा ने इस आंकड़े में 2 और वोटो की बढ़ोत्तरी कर दी. गुड्डू पंडित ने मीडिया के सामने पार्टी को बाय बाय करते हुए विक्ट्री का निशान भी बनाया.

गुरुवार की रात एक सार्वजनिक सन्देश के जरिये बसपा छोड़ने वाले विधायक राजेश त्रिपाठी ने आज वोट डालने के बाद यह तो घोषित कर दिया कि उनका वोट पार्टी प्रत्याशी को नहीं है मगर जनता को यह कयास लगाने के लिए छोड़ दिया कि आखिर उनका वोट किस दल के समर्थन में गया है.बसपा से ही 2 और विधायको के क्रास वोट करने की चर्चा रही. ये दोनों पूर्व बसपा नेता और अब भाजपा में शामिल हो चुके जुगुल किशोर के करीबी बताये जाते हैं.

मतदान के समय कांग्रेस प्रवक्ता और विधायक अखिलेश सिंह निश्चिन्त भाव से भ्रमण करते रहे. अखिलेश सिंह ने दावा किया कि उनके प्रत्याशी को 32 वोट मिलेंगे. उनके इस दावे का आधार पीस पार्टी के डा. अयूब के बयांन से भी पुष्ट हुआ जब मीडिया कर्मियों के सामने डा. अयूब ने कांग्रेस को समर्थन देने की घोषणा कर दी. कांग्रेसी विधायक अजय कुमार लल्लू ने कहा कि कौमी एकता पार्टी के दोनों विधायक मुख़्तार अंसारी और शिव्ब्गातुल्ला अंसारी के साथ पीस पार्टी के डा. अयूब और अखिलेश सिंह के साथ ही राष्ट्रीय लोक दल के 4 विधायको का वोट भी उन्हें मिला है.

राष्ट्रीय लोक दल के विधायक सर्वेश सिंह ने क्रास वोटिंग तो की ही मगर उनके मत के ख़ारिज होने का खतरा भी मंडराने लगा है. आरोप है कि उन्होंने अपना मत दिखा कर दिया. हांलाकि विधायक का कहना है वे महज पीछे मुड़े थे, वोट नहीं दिखाया था.

सपा के एक कद्दावर नेता तो यहाँ तक दावा कर गए कि भाजपा के दो विधायको ने भी क्रास वोटिंग की है. उन्होंने माना कि उनकी पार्टी में जरूर गद्दारी हुयी मगर उस संख्या से ज्यादा लोग उनके साथ आ गए हैं.

इस चुनावो के नतीजे फिलहाल बसपा और भाजपा के लिए नाक का सवाल बने हुए हैं. यह देखना बाकी है कि किसके सितारे बुलंद होते हैं .

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top