Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

VIDEO: MGR के शव के पास 21 घंटे खड़ी थीं जयललिता, पीटने के बाद दिया गया था धक्का

 Abhishek Tripathi |  2016-12-07 06:16:41.0


तहलका न्यूज डेस्क
नई दिल्ली. जब तमिलनाडु के तत्कालीन मुख्यमंत्री एमजी. रामचंद्रन का निधन हुआ तब 38 वर्षीय जयललिता उस समय अन्नाद्रमुक पार्टी की प्रचार सचिव थीं। उस दिन करीब 21 घंटे तक राजाजी हॉल में जयललिता एमजीआर के शव के पास खड़ी रहीं। जब एमजीआर के शव को राजाजी हॉल से निकालकर ले जाया जाने लगा तो जयललिता ने भी उस गाड़ी पर चढ़ने की कोशिश की, जिससे एमजीआर को ले जाया जा रहा था। तभी वहां एमजीआर की पत्नी जानकी रामचंद्रन और भतीजा दीपन आया। दीपन ने जयललिता के सिर पर जोर से मारा और उन्हें नीचे उतार दिया था। फिर जयललिता ने चढ़ने की कोशिश की तो दीपन ने उन्हें पीटा, धक्का दिया और नीचे गिरा दिया।


फर्राटेदार अंग्रेजी बोलने के कारण एमजीआर ने वर्ष 1984 में उन्हें पार्टी की प्रतिनिधि के बतौर जयललिता को राज्यसभा भेजा। 1984 से 1989 तक वे तमिलनाडु से राज्यसभा की सदस्य बनी थीं1 इसके बाद से ही जयललिता को एमजीआर का उत्तराधिकारी माना जाने लगा था। लेकिन यह उनकी पार्टी के कई नेताओं को पसंद नहीं था।


वर्ष 1984 में जब ब्रेन स्ट्रोक के कारण रामचंद्रन अक्षम हो गये तब जया ने मुख्यमंत्री का पद संभालना चाहा, लेकिन तब रामचंद्रन ने उन्हें पार्टी के उप नेता पद से भी हटा दिया था। वर्ष 1987 में रामचंद्रन का निधन हो गया और इसके बाद अन्नाद्रमुक दो धड़ों में बंट गयी। एक धड़े की नेता एमजीआर की विधवा जानकी रामचंद्रन थीं और दूसरे की जयललिता, लेकिन जयललिता ने खुद को रामचंद्रन की विरासत का उत्तराधिकारी घोषित कर दिया था।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top